NDTV Khabar

सबसे अधिक पंजाब में जली पराली, कृषि मंत्री बोले- मशीनें खरीदने के लिए दी जा चुकी है सब्सिडी

पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में पराली जलाने को लेकर कृषि मंत्रालय के पास मौजूद आंकड़े कई सवाल खड़े करते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. 4 नवंबर तक दर्ज हुईं पराली जलाने की 31,402 घटनाएं
  2. इस साल पंजाब की बढ़ी पराली जलाने में हिस्सेदारी
  3. बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने लगाई थी राज्यों को फटकार
नई दिल्ली:

पराली संकट पर कृषि मंत्रालय के पास मौजूद आंकड़े चौंकाने वाले हैं. इस साल 4 नवंबर तक आक्रोश और चिंता के बावजूद देश में 31,402 पराली जलाने के मामले रिकार्ड किए जा चुके हैं, जिनमें सबसे ज्यादा 25,366 यानी 80.77% मामले पंजाब में सामने आए हैं. अब सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद किसानों तक पराली खत्म करने के लिए  विशेष मशीनें पहुंचाने की प्रक्रिया तेज करने की तैयारी शुरू की जा रही है.

पराली संकट पर बुधवार को 4 राज्य सरकारों को सुप्रीम कोर्ट की कड़ी फटकार के बाद गुरूवार को कृषि मंत्री नरेन्द सिंह तोमर एनडीटीवी से बोले कि संकट बड़ा है और इससे निपटने के लिए सरकार ने एक नई स्कीम शुरू की है. नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा, "कृषि मंत्रालय पराली के खिलाफ योजना के लिए 2018-19 और 2019-20 में  1151 करोड़ रुपए आवंटित कर चुका है. अब तक  पराली खत्म करने के लिए 56,290 विशेष मशीनें खरीदने के लिए 584 करोड़ की सब्सिडी दी जा चुकी है. इसकी वजह से पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में पराली जलाने की घटनाओं में 12 फीसदी की कमी आई है.''

अनूठी पहल : पराली नहीं जलाने वाले किसानों को सरपंच ने कराई हवाई सैर


पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश में पराली जलाने को लेकर कृषि मंत्रालय के पास मौजूद आंकड़े कई सवाल खड़े करते हैं.  2018 में इन तीन राज्यों में पराली जलाने की 35,717 घटनाएं हुईं जबकि 4 नवंबर, 2019 तक पराली जलाने की 31,402 घटनाएं रिकार्ड की गयीं, जो पिछले साल के मुकाबले 12.01% कम है. लेकिन पराली जलाने की घटनाएं जारी हैं, और ये संख्या बढ़ती जा रही है.

सबसे ज़्यादा चिंता पंजाब को लेकर है. 2018 में सबसे ज़्यादा 77% घटनाएं पंजाब में रिकार्ड की गयीं. इस साल भी पराली जलाने की 31,402 घटनाओं में से 25366 पंजाब में रजिस्टर की गयीं. यानी 2019 में पंजाब की हिस्सेदारी बढ़कर  80.77% हो गयी.

एक्शन में पंजाब सरकार: पराली जलाने पर 196 किसान गिरफ्तार, 327 FIR हुईं दर्ज

टिप्पणियां

चिंता छोटे किसानों को लेकर भी है जो विशेष मशीनें नहीं खरीद सकते. नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि छोटे किसान मशीन खरीदें ये ज़रूरी नहीं. जो लोग विशेष मशीनें खरीद सकते हैं वो इनका इस्तेमाल करने छोटे किसानों को अगर देंगे तो इससे आय का एक नया स्रोत भी खड़ा हो सकता है.

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिवों को जमकर फटकार लगाते हुए कहा था कि पराली की समस्या खत्म करने की प्राथमिक ज़िम्मेदारी राज्य सरकारों की है, किसानों की नहीं...और वो प्रदूषण के बढ़ते संकट के लिए मुख्य रूप से ज़िम्मेदार हैं.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement