गुजरात RS चुनाव: अहमद पटेल की सीट बचाने को कांग्रेस की कवायद, 44 MLA बेंगलुरू भेजे

पार्टी का कहना है कि उसके विधायकों को धमकियां मिल रही हैं. खरीद-फरोख्‍त की कोशिशें हो रही हैं.

गुजरात RS चुनाव: अहमद पटेल की सीट बचाने को कांग्रेस की कवायद, 44 MLA बेंगलुरू भेजे

खास बातें

  • शंकर सिंह वाघेला ने कांग्रेस छोड़ी
  • उसके बाद गुजरात कांग्रेस में भगदड़ जैसी स्थिति
  • आठ अगस्‍त को होने हैं राज्‍यसभा चुनाव

गुजरात में 24 घंटे के भीतर छह कांग्रेसी विधायकों के पाला बदलकर बीजेपी खेमे में जाने से सकते में आई कांग्रेस ने आठ अगस्‍त को होने वाले राज्‍यसभा चुनावों के मद्देनजर आनन-फानन में अपने 44 विधायकों को बेंगुलरू भेज दिया है. वहां शहर के पास एक रिसॉर्ट में उनको ठहराया गया है. पार्टी का कहना है कि उसके विधायकों को धमकियां मिल रही हैं. खरीद-फरोख्‍त की कोशिशें हो रही हैं. दरअसल आठ अगस्‍त को गुजरात की तीन राज्‍यसभा सीटों पर चुनाव होने जा रहे हैं. संख्‍याबल के लिहाज से इनमें से दो सीटें बीजेपी और एक कांग्रेस को मिलनी थीं. बीजेपी ने दो सीटों के लिए अमित शाह और स्‍मृति ईरानी को उतारा है. कांग्रेस ने अपनी तरफ से पांच बार से राज्‍यसभा सांसद अहमद पटेल को उतारा है. लेकिन इस बीच कांग्रेस के कद्दावर नेता शंकर सिंह वाघेला ने पार्टी छोड़ दी. उसके बाद पार्टी में भगदड़ की स्थिति बन गई.
 

gujarat mla


शंकर सिंह वाघेला
वाघेला के रिश्‍तेदार बलवंत सिंह राजपूत ने कांग्रेस छोड़कर बीजेपी ज्‍वाइन कर ली और उसके बाद बीजेपी ने तीसरे प्रत्‍याशी के रूप में उनको मैदान में उतार दिया. इससे कांग्रेस में फूट को देखते हुए क्रॉस वोटिंग की संभावना दिख रही है. लिहाजा कांग्रेस ने अपने विधायकों को बेंगलुरू पहुंचाया है.

उल्‍लेखनीय है कि शुक्रवार देर शाम तक, करीब 11 कांग्रेसी विधायक राजकोट में एकांत जगह पर रहे, जबकि 15 एमएलए यहां से करीब 240 किलोमीटर दूर बोरसाड में एक रिसॉर्ट में थे, जहां पार्टी के प्रदेश प्रमुख भारत सोलंकी ने उनके साथ बैठक की. कांग्रेस ने भाजपा पर आरोप लगाया है कि वह गुजरात में खरीद-फरोख्त में शामिल है और 'धन, ताकत और राज्य सत्ता' का इस्तेमाल कर रही है ताकि महत्वपूर्ण राज्यसभा चुनावों से पहले दल-बदल करवा सके.

यह भी पढ़ें-राज्य सभा के लिए अहमद पटेल की बढ़ी मुश्किल, BJP ने दिया कांग्रेस के मुख्य सचेतक को टिकट

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक सिंघवी ने कहा कि 'गुजरात में भाजपा ने खरीद-फरोख्त में करोड़ों रुपये खर्च किए हैं. आपने यह नौटंकी देखी है... गुजरात में भाजपा की नीति है कि सभी कानूनों को तोड़कर जैसे भी हो सत्ता में बने रहा जाए'. सिंघवी ने कहा कि पार्टी अपने सारे विकल्प खुले रख रही है और विधायकों को चेतावनी दी कि दल-बदल विरोधी कानून के तहत वे छह वर्ष तक चुनाव लड़ने के अयोग्य हो जाएंगे.

यह भी पढ़ें- गुजरात में कांग्रेस को झटका! राज्यसभा चुनावों से पहले तीन विधायकों ने दिया इस्तीफ़ा...

VIDEO- कांग्रेस विधायकों ने बीजेपी का दामन थामा

182 सदस्यीय विधानसभा में अब पार्टी के घटकर 51 विधायक रह गए हैं. सूत्रों ने बताया कि वाघेला के प्रति वफादार कुछ और विधायक इस्तीफा दे सकते हैं, जबकि अन्य अगले सप्ताह कांग्रेस के उम्मीदवार के खिलाफ वोट कर सकते हैं जैसा कि राष्ट्रपति चुनाव, जैसा कि 11 लोगों ने विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार की बजाय रामनाथ कोविंद के लिए मतदान किया था.