कांग्रेस की कई कामयाबियों में अहमद पटेल का बड़ा योगदान रहा

सोनिया गांधी के राजनीतिक सचिव अहमद पटेल अक्सर पर्दे के पीछे रहकर काम करते थे, सोनिया के नेतृत्व में कांग्रेस ने जो शानदार दिन देखे, उनमें पटेल की बड़ी भूमिका रही

कांग्रेस की कई कामयाबियों में अहमद पटेल का बड़ा योगदान रहा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल (फाइल फोटो).

नई दिल्ली:

कांग्रेस के जाने-माने नेता अहमद पटेल (Ahmed Patel) नहीं रहे. वे लंबे समय तक कोरोना से लड़ते रहे, लेकिन अंततः यह लड़ाई वे हार गए. वे 71 साल के थे. कांग्रेस (Congress) की कई कामयाबियों में उनका बड़ा योगदान रहा. वे ऐसे समय गए, जब पार्टी को उनकी ख़ासी ज़रूरत थी. वे कांग्रेस का नेपथ्य थे. सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के राजनीतिक सचिव- जो अक्सर पर्दे के पीछे रह कर काम करते थे. सोनिया के नेतृत्व में कांग्रेस ने जो शानदार दिन देखे, उनमें अहमद पटेल की बड़ी भूमिका रही.

साल 2004 और 2009 के लोकसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत के पीछे जो रणनीतिक सेनापति रहे, उनमें अहमद पटेल प्रमुख रहे. तमाम उठापटक के बीच उनकी निष्ठा असंदिग्ध रही. पार्टी के लिए साधन जुटाने का काम हो, किसी संकट से किसी को उबारने का काम हो, अहमद पटेल इसमें माहिर थे. वे उन गिने-चुने नेताओं में थे जिनकी तमाम दलों के भीतर तूती बोलती थी.

Newsbeep

राजनीति में जिसे असंभव को साधना कहते हैं, वह पटेल ने कई बार कर दिखाया. ज़्यादा दिन नहीं हुए, जब गुजरात से पांचवीं बार राज्यसभा की सदस्यता हासिल करते हुए उन्होंने कई राजनीतिक-क़ानूनी बाधाएं पार कीं. हालांकि वे कुल आठ बार सांसद रहे. तीन बार लोकसभा के लिए भी चुने गए. पहला लोकसभा चुनाव 1977 में जनता पार्टी की आंधी के बावजूद जीता. सन 1980 और 1984 में फिर सांसद बने. भारतीय राजनीति के बदलते मौसमों को उन्होंने करीब से देखा, लेकिन कभी बदले नहीं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


उनका निधन ऐसे समय हुआ है, जब कांग्रेस अपने सबसे बुरे दौर से गुज़र रही है. इस दौरान संगठन के भीतर जो उठापटक चल रही है, उसमें भी अहमद पटेल अपने आलाकमान के लिए बेशक़ीमती साबित होते. उनको खोकर कांग्रेस ने अपना एक मज़बूत सिपाही खो दिया है.