UIDAI ने 127 लोगों को भेजे नोटिस तो ओवैसी ने उठाए सवाल, दिलाई आधार एक्ट की याद

UIDAI की तरफ से  हैदराबाद में 127 लोगों को जारी की गई नोटिस के बाद ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर विरोध जताया है.

UIDAI ने 127 लोगों को भेजे नोटिस तो ओवैसी ने उठाए सवाल, दिलाई आधार एक्ट की याद

AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी (फाइल फोटो)

खास बातें

  • असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर जताया विरोध
  • UIDAI ने 127 लोगों को भेजा है नोटिस
  • यह गैर कानूनी और अस्वीकार्य है- असदुद्दीन ओवैसी

UIDAI की तरफ से  हैदराबाद में 127 लोगों को जारी की गई नोटिस के बाद ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर विरोध जताया है. ओवैसी ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'आधार एक्ट के सेक्शन 9 के मुताबिक आधार कार्ड को नागरिकता का प्रमाण नहीं माना गया है. @UIDAI @UIDAIHyabad के पास ऐसे कौनसे कानूनी अधिकार है, जिसके तहत नागरिकता के सबूत मांगे गए हैं. यह गैर कानूनी और अस्वीकार्य है.'

betep83g

गौरतलब है कि UIDAI ने मंगलवार को कहा था कि उसके हैदराबाद कार्यालय ने कथित तौर पर गलत तरीका अपनाकर आधार नंबर प्राप्त करने के लिए 127 लोगों को नोटिस भेजे हैं, हालांकि यह जोड़ा कि इसका नागरिकता से कोई संबंध नहीं है. भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने पुलिस से रिपोर्ट मिलने के बाद नोटिस जारी किए हैं.

जामिया में शख्स ने की खुलेआम फायरिंग, असदुद्दीन ओवैसी ने कहा, "प्रधानमंत्री कपड़ों से करें पहचान"

Newsbeep

बयान में कहा गया था कि आधार नागरिकता का दस्तावेज नहीं है और आधार अधिनियम के तहत यूआईडीएआई को यह सुनिश्चित करना होता है कि आधार के लिए आवेदन करने से पहले कोई व्यक्ति भारत में कम से कम 182 दिनों से रह रहा है. उच्चतम न्यायालय ने अपने एक ऐतिहासिक फैसले में यूआईडीएआई को अवैध प्रवासियों को आधार नहीं जारी करने का निर्देश दिया था. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: मस्जिद को गिराने वाले आज ट्रस्ट बनाने जा रहे हैं: ओवैसी