एयर इंडिया का सर्वर हुआ ठीक, चेक इन शुरू, भारत समेत दुनिया भर में हजारों यात्री एयरपोर्ट घंटों हुए परेशान

एयर इंडिया विमान का सर्वर डाउन होने से शनिवार को यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा.

एयर इंडिया का सर्वर हुआ ठीक, चेक इन शुरू, भारत समेत दुनिया भर में हजारों यात्री एयरपोर्ट घंटों हुए परेशान

एयर इंडिया का सर्वर डाउन

नई दिल्ली:

एयर इंडिया विमान का सर्वर डाउन होने से शनिवार को यात्रियों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. एयर इंडिया का सर्वर डाउन होने की वजह से एयर इंडिया की घरेलू उड़ान के साथ साथ अंतरराष्ट्रीय उड़ानें भी प्रभावित हुईं. हाालांकि, अब सर्वर ठीक हो गया है और यात्रियों का चेक इन भी शुरू हो गया है. बता दें कि सर्वर डाउन होने से दिल्ली के इंदिरा गांधी एयरपोर्ट के साथ-साथ देश के सभी एयरपोर्ट पर यात्री फंसे हुए थे. सर्वर डाउन होने की वजह से न तो चेक इन हो पा रहा था और न ही यात्री बोर्डिंग पास निकाल पा रहे थे. मगर अब इस तकनीकी खराबी को दूर कर लिया गया है. दरअसल, एयरलाइन का SITA सर्वर भारत समेत विदेशों में तड़के 3.30 बजे से डाउन था. 

Air India कर्मचारी 8 महीने से है लापता, पुलिस ने ली ज्योतिषी से मदद, बेटे से कहा- मंदिर जाओ और...

एयर इंडिया के चेयरमैन अश्वनी लोहानी ने एनडीटीवी से कहा था कि एयरलाइन का पैसेंजर्स सिस्टम डाउन है. यह एक तकनीकी खराबी है, जिसे जल्द ही ठीक कर लिया जाएगा. 

वहीं, एयर इंडिया के प्रवक्ता ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा था कि 'SITA सर्वर डाउन है. जिसकी वजह से फ्लाइट ऑपरेशन प्रभावित हुआ है. हमारी तकनीकी टीम काम कर रही है और जल्द ही सिस्टम को ठीक कर लिया जाएगा. असुविधा के लिए हमें खेद है.

इधर, मुंबई एयरपोर्ट पर फंसे एक यात्री गायत्री ने ट्वीट किया कि यहां एयरपोर्ट पर कम से कम 2 हजार यात्री फंसे हैं. पूरे भारत में SITA सॉफ्टवेयर डाउन होने के कारण यात्रियों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

बताया जा रहा है कि दिल्ली एयरपोर्ट और मुंबई एयरपोर्ट पर सबसे ज्यादा यात्री फंसे हुए हैं. यात्री पिछले चार-पांच घंटों से इस सर्वर डाउन होने की वजह से एयरपोर्ट पर फंसे हुए हैं. 

क्या है एसआईटीए: एसआईटीए एयर इंडिया के सॉफ्टवेयर सॉल्यूशन का प्रबंधन करती है. एसआईटीए सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र की एक बड़ी कंपनी है जो एयरलाइन को आगमन, बोर्डिंग और सामान को ट्रैक करने की प्रौद्योगिकी मुहैया कराती है.