Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com
NDTV Khabar

बिजली और पानी के बकाए के चलते अजंता और एलोरा के विजिटर सेंटर बंद

यूनेस्को विरासत की सूची में शामिल विश्व प्रसिद्ध इस धरोहर स्थलों के इतिहास एवं महत्व के बारे में तमाम सूचनाएं उपलब्ध कराने के मकसद से स्थापित इन केंद्रों में गुफाओं के भीतर स्थित कुछ मूर्तियों के प्रतिरूप भी मौजूद हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
बिजली और पानी के बकाए के चलते अजंता और एलोरा के विजिटर सेंटर बंद

अजंता और एलोरा की गुफाएं (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. दो पर्यटक विजिटर सेंटरों पर पांच करोड़ का है बकाया
  2. बिजली और पानी के बकाए के चलते किया गया बंद
  3. यूनेस्को विरासत की सूची में शामिल हैं ये विश्व प्रसिद्ध धरोहर
औरंगाबाद:

महाराष्ट्र सरकार द्वारा अजंता और एलोरा की गुफाओं के बाहर बनाए गए दो पर्यटक विजिटर सेंटर को पांच करोड़ रुपये के बिजली और पानी के बकाए के चलते बंद कर दिया गया है. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी. इन केंद्रों को जापानी अंतरराष्ट्रीय सहयोग एजेंसी (जेआईसीए) से प्राप्त निधि की मदद से स्थापित किया गया था. यूनेस्को विरासत की सूची में शामिल विश्व प्रसिद्ध इस धरोहर स्थलों के इतिहास एवं महत्व के बारे में तमाम सूचनाएं उपलब्ध कराने के मकसद से स्थापित इन केंद्रों में गुफाओं के भीतर स्थित कुछ मूर्तियों के प्रतिरूप भी मौजूद हैं.

सावरकर को लेकर राहुल गांधी के बयान पर शिवसेना हुई खफा, कहा- हम नेहरू, बापू को मानते हैं, और आप...

एक अधिकारी ने बताया कि राज्य सरकार ने ये दो केंद्र 2013 में स्थापित किए थे जिनके लिए दो चरणों में 125 करोड़ रुपये खर्च किए गए थे. इनमें ऑडियो-विजुअल प्रेजेंटेशन और लाइब्रेरी जैसी सुविधाएं है. उन्होंने बताया कि इसके लिए बड़ी राशि जेआईसीए ने दी थी. उन्होंने बताया कि ये केंद्र कुछ समय के लिए ठीक-ठाक चले लेकिन पिछले साल सितंबर में इन्हें बंद कर दिया गया क्योंकि वहां पानी और बिजली की आपूर्ति बंद कर दी गई थी.


मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राकांपा कोटे से मंत्री पाटिल और भुजबल के विभागों में की फेरबदल

अधिकारी ने कहा, 'इन दोनों केंद्रों का बकाया अब पांच करोड़ रुपये हो गया है.' उन्होंने कहा, 'महाराष्ट्र पर्यटन विकास निगम (एमटीडीसी) ने सरकार से इन बकायों के भुगतान के लिए पांच से छह बार निधि मांगी है. हमें पिछले साल पांच करोड़ रुपये मिले थे लेकिन वह पुराना बकाया चुकाने में खर्च हो गए.' अधिकारी ने कहा कि एमटीडीसी को सभी बकाए चुकाने और इन केंद्रों को फिर से शुरू करने के लिए करीब 10 करोड़ रुपये की जरूरत है. साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार को इन केंद्रों के लिए नियमित रूप से निधि जारी करनी चाहिए.

टिप्पणियां

VIDEO: अजंता की गुफाओं पर भूस्खलन का खतरा



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली में तनाव के बीच एक बार फिर बोले कपिल मिश्रा, 'जिन्होंने बुरहान वानी और अफजल गुरु को आतंकी नहीं माना, वो...'

Advertisement