NDTV Khabar

अजमेर उपचुनाव: कांग्रेस के रघु शर्मा ने बीजेपी को हराकर अपने नेता सचिन पायलट का बदला ले लिया

राजस्थान में अजमेर संसदीय क्षेत्र के उपचुनाव पर शुरू से ही सबकी नजरें थीं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अजमेर उपचुनाव: कांग्रेस के रघु शर्मा ने बीजेपी को हराकर अपने नेता सचिन पायलट का बदला ले लिया

रघु शर्मा (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. रघु शर्मा जयपुर से भी चुनाव लड़ चुके हैं.
  2. जहां से ये जीतें हैं, वहां से सचिन पायलट हार चुके हैं.
  3. रघु शर्मा ने सांवरलाल जाट के बेटे को हराया है.
अजमेर: राजस्थान में अजमेर संसदीय क्षेत्र के उपचुनाव पर शुरू से ही सबकी नजरें थीं. कारण कि इस सीट पर कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट ने बड़ा दांव खेला था और अपनी जगह डॉ रघु शर्मा को मैदान में उतारा था. जैसे ही अजमेर सीट के लिए वोटों की गिनती शुरू हुई, रघु शर्मा ने बढ़त बनाए रखी. अंतत: उन्होंने बीजेपी के रामस्वरूप लांबा को 84 हजार 4 सौ चौदह वोटों के अंतर से हरा दिया और जीत का सेहरा अपने नाम कर लिया. रघु शर्मा को करीब 611514 वोट मिले. खास बात ये भी है कि कांग्रेस के रघु शर्मा ने बीजेपी के घर में ही उसे मात दी है. 

By-election Results: बीजेपी की चौतरफा हार, कांग्रेस ने राजस्‍थान की तीनों सीटें जीतीं, बंगाल में टीएमसी का कब्‍जा

अजमेर का उपचुनाव कांग्रेस और बीजेपी दोनों के लिए प्रतिष्ठा का विषय बन चुका था. क्योंकि इस सीट से सचिन पायलट भी चुनाव लड़ चुके हैं, मगर उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. रघु शर्मा की यह जीत इसलिए भी खास है क्योंकि उन्होंने सांवरलाल जाट के बेटे रामस्वरूप लांबा को इस चुनाव में हराया है. यह सीट सांसद सांवरलाल जाट के 2017 में निधन के बाद खाली हो गया था, जिसके बाद यहां उपचुनाव कराए गये. 

डॉ. करण सिंह यादव : अलवर उपचुनाव में अपने 'पंजे' से 'कमल' को कुचल देने वाले कांग्रेस के दिग्गज नेता

रघु शर्मा केकड़ी विधानसभा सीट से 2008-13 में विधायक भी रह चुके हैं. वो जयपुर से संसदीय चुनाव यानी लोकसभा चुनाव भी लड़ चुके हैं, मगर उस वक्त उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. रघु शर्मा राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस के व्हिप की भी भूमिका निभा चुके हैं. वह अजमेर जिले के सावर गांव के निवासी हैं. 

राजस्थान उपचुनाव में 'पद्मावत' का हथकंडा भी काम न आया और कांग्रेस ने बीजेपी से छीन ली तीन सीटें

टिप्पणियां
बताया जाता है कि रघु शर्मा कॉलेड टाइम से ही छात्र राजनीति में आगे रहे हैं. उन्होंने छात्र संघ चुनाव भी लड़ा था. उन्होंने डॉक्टरेट की भी उपाधी ली है. माना जाता है कि रघु शर्मा की सचिन पायलट और पूर्व सीएम गहलौत से काफी नजदीकी रही है. यही वजह है कि सचिन पायलट ने उन पर विश्वास जताया और अजमेर की सीट से उन्होंने खुद नहीं लड़ा बल्कि रघु शर्मा को उतार दिया. 

VIDEO: राहुल गांधी के जैकेट पर बीजेपी का वार


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...
 Share
(यह भी पढ़ें)... बिहार में कुशवाहा फैक्टर...

Advertisement