किसान आंदोलन : अखिलेश यादव का केंद्र पर तंज, 'घर की आग का मंजर क्यों न दिखता उन्हें'

अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने ट्वीट किया, "भाजपा सरकार किसानों के प्रति असंवेदनशील होकर जिस प्रकार उपेक्षापूर्ण रवैया अपना रही है, वह अन्नदाता का सीधे-सीधे अपमान है. घोर निंदनीय."

किसान आंदोलन : अखिलेश यादव का केंद्र पर तंज, 'घर की आग का मंजर क्यों न दिखता उन्हें'

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • किसान आंदोलन का आज 47वां दिन
  • अखिलेश यादव ने केंद्र पर कसा तंज
  • नए कृषि कानूनों की वापसी की मांग
नई दिल्ली:

नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है. पंजाब समेत कई राज्यों के किसान एक महीने से ज्यादा वक्त से दिल्ली बॉर्डर पर डटे हुए हैं. समाजवादी पार्टी (SP) के अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) ने किसानों के मसले पर भारतीय जनता पार्टी (BJP) के खिलाफ शायराना अंदाज में तीखी प्रतिक्रिया देते हुए सोमवार को कहा कि इस दुनिया में उठता हुआ धुआं दिखता है जिन्हें, घर की आग का मंजर, क्यों न दिखता उन्हें.

अखिलेश यादव ने सोमवार को ट्वीट किया, "भाजपा सरकार किसानों के प्रति असंवेदनशील होकर जिस प्रकार उपेक्षापूर्ण रवैया अपना रही है, वह अन्नदाता का सीधे-सीधे अपमान है. घोर निंदनीय." उन्होंने आगे कहा, "अब तो देश की जनता भी किसानों के साथ खड़ी होकर पूछ रही है- ‘दुनिया में उठता हुआ धुआं दिखता है जिन्हें, घर की आग का मंज़र, क्यों न दिखता उन्हें'."


सपा अध्यक्ष ने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का जिक्र करते हुए कहा, "सपा के समय में पूर्वांचल की खुशहाली के लिए समाजवादी एक्सप्रेस-वे का काम शुरू हुआ था, जिसे भाजपा सरकार बना न सकी. अब सपा की सरकार आयेगी और हवाई जहाज उतारकर इसका उद्घाटन करेगी." उन्होंने कहा, "उत्तर प्रदेश की जनता त्रस्त है भाजपा सरकार के ऐसे विकास से, नाम है एक्सप्रेस-वे, पर बना रही है बैलगाड़ी की चाल से."

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : किसान और सरकार आमने-सामने



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)