NDTV Khabar

एनडीटीवी युवाः भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर रावण से क्या करेंगे मुलाकात, अखिलेश यादव का ये रहा जवाब

हिंसा के मामले में जेल से रिहा हुए चंद्रशेखर आजाद से भविष्य में मुलाकात के सवाल पर अखिलेश यादव ने जानिए क्या दिया जवाब.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
एनडीटीवी युवाः भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर रावण  से क्या करेंगे मुलाकात, अखिलेश यादव का ये रहा जवाब

एनडीटीवी युवा कॉन्क्लेव में बोलते सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव.

नई दिल्ली: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव यहां एनडीटीवी के युवा कॉन्क्लेव कार्यक्रम में राजनीतिक मु्द्दों पर खुलकर बोले. हर बात का बेबाकी से जवाब दिया. महागठबंधन के नेता के सवाल पर अखिलेश यादव ने चालाकी से जवाब दिया. कहा कि नेता चुनाव के बाद बनाएंगे. हम चाहते हैं कि पहले बीजेपी को रोक जाए. अगर यूपी में बीजेपी को रोक ले गए तो पूरे देश में बीजेपी रुक जाएगी. हालांकि क्षेत्रीय दलों को साथ लाने के मुद्दे पर उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस को बड़ा दिल करके देश के लिये रास्ता निकलना चाहिए क्योंकि वह राष्ट्रीय पार्टी है और इस हिसाब से उसकी बड़ी जिम्मेदारी है. हाल में जेल से रिहा हुए दलित आंदोलनकारी नेता की छवि रखने वाले चंद्रशेखर आजाद से क्या मुलाकात करेंगे, इस सवाल पर अखिलेश यादव ने कहा कि मुलाकात को लेकर कुछ नहीं कह सकता. मगर महागठबंधन से जो कोई जुड़ना चाहेगा, उसका स्वागत है. कोई भी समाजवादी पार्टी में शामिल हो सकता है. मुलाकात को लेकर जितनी जिम्मेदारी मेरी है, उससे कहीं ज्यादा जिम्मेदारी अगले की भी है. सबको मिलकर बीजेपी को रोकना है.

टिप्पणियां
असली मुकाबला आरएसएस से
 उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि लोकसभा चुनाव में सांप्रदायिक रोकने के लिये दो कदम पीछे भी जाना पड़े तो वह तैयार हैं. उन्होंने कहा कि लड़ाई तो बीजेपी से है लेकिन असली मुकाबला तो आरएसएस से है क्योंकि वह दिखता नहीं है. उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में बीजेपी सिर्फ चुनाव लड़ी थी लेकिन जमीन पर झूठा प्रचार आरएसएस ने किया है. इसी बीच अखिलेश यादव ने भी कहा कि प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश से ही होना चाहिए. अखिलेश यादव के इस बयान के कई मायने निकाले जा रहे हैं. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि देश को आरएसएस से बचाना है.  'एनडीटीवी युवा' में खास बातचीत में कहा कि विचारधारा की लड़ाई से विचारधारा से ही लड़ी जा सकती है.मुझे बैकवर्ड बनाने के लिये आरएसएस और बीजेपी का धन्यवाद. लेकिन मैं काम करते-करते समझने लगा था कि मैं भी फॉरवर्ड हो गया हूं लेकिन मुझे आरएसएस ने बैकवर्ड होने का अहसास कराया. वहीं मीडिया की भूमिका पर सवाल उठाते हुए अखिलेश ने कहा कि मुझे याद है कि यूपी में कोई घटना होती थी तो पहले अखिलेश यादव की तस्वीर आती थी और दिन भर वह चलाया जाता था और आज मुख्यमंत्री बदल गये हैं.

अमर सिंह पर साधा निशाना
परिवार में झगड़े के सवाल पर अखिलेश यादव टालने की मुद्रा में नजर आए तो और कहा कि ये झगड़ा किसी और कारण से है. उन्होंने कहा कि एक अखबार में पढ़ा तो मुझे औरंगजेब लिखा गया तो उसके पीछे एक बड़े लोग थे. जब उनसे सवाल किया गया कि इसके पीछे कौन है तो उन्होंने कहा कि जब पीएम मोदी लखनऊ पहुंचे तो वहां कालाधन तो नहीं मिला लेकिन कार्यक्रम में अमर सिंह मिल गए.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement