NDTV Khabar

अकोला के डीएम ने जब गंदगी देख मंगाया पानी और कपड़ा, फिर करने लगे सफाई , शर्मिंदा हुए कर्मचारी

यूपी के गोंडा निवासी महाराष्ट्र काडर के IAS आस्तिक कुमार पांडेय एक बार फिर सुर्खियों में हैं. मामला साफ-सफाई से जुड़ा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अकोला के डीएम ने जब गंदगी देख मंगाया पानी और कपड़ा, फिर करने लगे सफाई , शर्मिंदा हुए कर्मचारी

महाराष्ट्र के अकोला जिले के कलेक्टर आस्तिक कुमार.

कुछ कर्मठ आईएएस जब लीक से हटकर काम करते हैं तो सुर्खियों में आते हैं. वे खुद उदाहरण पेश कर मातहतों को काम के लिए प्रेरित करते हैं. ऐसा ही एक मामला सामने आया है महाराष्ट्र मे. जहां के अकोला जिले के कलेक्टर आस्तिक कुमार पांडेय ने कुछ ऐसा काम किया कि सोशल मीडिया पर सराहना हो रही है.आस्तिक कुमार पांडेय उत्तर प्रदेश के गोंडा के रहने वाले हैं. वह 2011 बैच के महाराष्ट्र काडर के आइएएस अफसर हैं. उनकी पत्नी मोक्षदा पाटिल भी महाराष्ट्र कैडर की आईपीएस अधिकारी हैं.

कासगंज हिंसा : फेसबुक पोस्ट से विवादों में आए बरेली के डीएम ने मांगी माफी, कहा- DNA एक ही है

दरअसल अकोला कलेक्टर आस्तिक कुमार पांडेय लोक निर्माण विभाग के दफ्तर का निरीक्षण करने निकले थे. दीवारों और कोनों में गंदगी देखकर वह खुद को सफाई के लिए आगे आने से नहीं रोक सके. कलेक्टर  ने देखा कि पीडब्ल्यूडी दफ्तर की दीवारें पान और गुटखा की पीक से रंगीं हैं.उन्होंने तत्काल एक बाल्टी पानी और एक कपड़ा मंगवाया और फिर जुट गए सफाई करने में. खुद कलेक्टर को सफाई करते देख कर्मचारी शर्मिंदा हो गए और उन्होंने आश्वासन दिया कि अब कोई शिकायत नहीं मिलेगी. वे खुद दफ्तर को साफ-सुथरा रखेंगे. कर्मचारियों से आश्वासन मिलने के बाद ही सफाई का काम छोड़ा.एक अधिकारी ने बताया कि पांडे ने अन्य विभागों का भी निरीक्षण किया. उन्होंने एक कोने में गोबर देखा तो एक झाड़ू लेकर खुद उसे साफ किया.


योगी सरकार के आदेश से अधिकारियों में तकरार, नोएडा में डीएम और एसएसपी आमने-सामने

पहले भी रहे हैं सुर्खियों मेंः गोंडा के परसपुर निवासी आस्तिक कुमार पांडेय ने महाराष्ट्र में बतौर आईएएस अफसर अपनी खास पहचान कायम की है. उन्हें शानदार सेवा के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फणनवीस राज्य स्तरीय तृतीय पारितोषक सम्मान पत्र और सत्रह लाख रुपए का पुरस्कार प्रदान कर चुके हैं. आस्तिक ने माई जेडपी जलगांव नामक एण्ड्राइड फोन एप्लीकेशन बनाकर जलगांव जिले को राज्य का पहला हाईटेक जिला परिषद होने का तमगा दिलाया. स्कूलों में  शिक्षकों की आनलाइन अटेंडेंस दर्ज की नई व्यवस्था भी लागू की.513 विद्यालयों को डिजिटल कर प्रोजेक्टर से पढ़ाई की व्यवस्था की. 

टिप्पणियां

वीडियो-फेसबुक पोस्ट को लेकर कलेक्टर को चार्जशीट 



 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement