CBI चीफ पद से हटाए गए आलोक वर्मा, PM मोदी के नेतृत्व में हुई सेलेक्शन कमेटी की बैठक में फैसला

CBI चीफ आलोक वर्मा (Alok Verma Removed) को उनके पद से हटा दिया गया है. पीएम मोदी (PM Modi) के नेतृत्व में सेलेक्शन कमेटी (Select Panel Meeting) की हुई बैठक के बाद यह फैसला किया गया.

खास बातें

  • सीबीआई प्रमुख आलोक वर्मा हटाए गए
  • नागेश्वर राव फिर संभाल सकते हैं कमान
  • पीएम के घर हुई बैठक के बाद फैसला
नई दिल्ली:

CBI चीफ आलोक वर्मा (Alok Verma) को उनके पद से हटा दिया गया है. पीएम मोदी (PM Modi) के नेतृत्व में सेलेक्शन कमेटी (Select Panel Meeting) की हुई बैठक के बाद यह फैसला किया गया. सेलेक्शन पैनल की बैठक (Select Panel Meeting) के बाद आलोक वर्मा (Alok Verma Removed) का तबादला कर दिया गया. बैठक में पीएम मोदी (PM Modi), लोकसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे और जस्टिस एके सीकरी शामिल थे. बता दें कि नागेश्वर राव ने एक बार फिर कमान संभाल लिया है. सूत्रों के अनुसार सेलेक्शन कमेटी की बैठक में आलोक वर्मा को हटाए जाने पर एकराय नहीं थी. मल्लिकार्जुन खड़गे इसपर सहमत नहीं थे. इसके बाद बहुमत के आधार पर फैसला लिया गया.

यह भी पढ़ें: सीबीआई चीफ आलोक वर्मा को मिली दफ्तर जाने की इजाजत, सुप्रीम कोर्ट के फैसले की 8 बड़ी बातें

अधिकारियों ने बताया कि 1979 बैच के एजीएमयूटी कैडर के आईपीएस अधिकारी वर्मा को भ्रष्टाचार और कर्तव्य निर्वहन में लापरवाही के आरोप में पद से हटाया गया. इसके साथ ही एजेंसी के इतिहास में इस तरह की कार्रवाई का सामना करने वाले वह सीबीआई के पहले प्रमुख बन गए हैं. उन्होंने बताया कि वर्मा को राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) में पदस्थापित किए जाने की संभावना है. सीवीसी की रिपोर्ट में वर्मा के खिलाफ 8 आरोप लगाए गए थे. यह रिपोर्ट उच्चाधिकार प्राप्त समिति के समक्ष रखी गई. बता दें कि कल भी पीएम आवास पर सेलेक्शन कमेटी की बैठक हुई थी, लेकिन इस पर फैसला नहीं हो सका था. इससे पहले दफ्तर संभालते ही आलोक वर्मा एक्शन में आ गए थे.  उन्होंने अंतरिम प्रमुख नागेश्वर राव द्वारा किए गए ट्रांसफर को रद्द करने के साथ-साथ 5 अधिकारियों का ट्रांसफर भी कर दिया था. 

यह भी पढ़ें: दफ्तर संभालते ही एक्शन में CBI चीफ आलोक वर्मा, नागेश्वर राव के लगभग सभी ट्रांसफर ऑर्डर को किया रद्द

इससे पहले सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजने के सरकारी आदेश को मंगलवार को रद्द कर दिया था. आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच तकरार शुरू होने के बाद सरकार ने दोनों को छुट्टी पर भेज दिया था और उनके सारे अधिकार ले लिए थे.

यह भी पढ़ें: CBI चीफ पद से हटाए गए आलोक वर्मा, PM मोदी के नेतृत्व में हुई सेलेक्शन कमेटी की बैठक के बाद फैसला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

आलोक वर्मा और राकेश अस्थाना को छुट्टी पर भेजने के बाद 1986 बैच के ओडिशा काडर के आईपीएस अधिकारी नागेश्वर राव को 23 अक्टूबर, 2018 को सीबीआई निदेशक के दायित्व और कार्य सौंपे गए थे. अधिकारियों के अनुसार अगली सुबह ही राव ने बड़े पैमाने पर तबादले किए. उनमें अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामले की जांच करने वाले अधिकारी जैसे डीएसपी एके बस्सी, डीआईजी एम के सिन्हा, संयुक्त निदेशक एके शर्मा भी शामिल थे. आलोक वर्मा ने बुधवार को अपना दायित्व संभाला और राव द्वारा किए गए सभी तबादले रद्द कर दिए.

VIDEO: दफ्तर संभालते ही एक्शन में CBI चीफ आलोक वर्मा