NDTV Khabar

जम्मू और पहलगाम रास्तों से अमरनाथ यात्रा फिर से शुरू, बालटाल मार्ग से यात्रा अब भी स्थगित

पिछले चार दिनों के दौरान खराब मौसम के कारण बार-बार बाधित होने के बाद अमरनाथ यात्रा सोमवार को जम्मू और पहलगाम आधारशिविरों से बहाल हो गयी जबकि बालटाल मार्ग से यह स्थगित रही.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जम्मू और पहलगाम रास्तों से अमरनाथ यात्रा फिर से शुरू, बालटाल मार्ग से यात्रा अब भी स्थगित

जम्मू और पहलगाम मार्गों से अमरनाथ यात्रा बहाल

श्रीनगर:

पिछले चार दिनों के दौरान खराब मौसम के कारण बार-बार बाधित होने के बाद अमरनाथ यात्रा सोमवार को जम्मू और पहलगाम आधारशिविरों से बहाल हो गयी जबकि बालटाल मार्ग से यह स्थगित रही. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. अधिकारियों के अनुसार खराब मौसम के कारण एक दिन यात्रा स्थगित रहने के बाद 492 महिलाओं, तीन बच्चों और 174 संतों समेत 2675 श्रद्धालुओं का पहला जत्था यहां भगवती नगर आधार शिविर से रवाना हुआ. उन्होंने बताया कि श्रद्धालुओं का यह जत्था कड़ी सुरक्षा के बीच 113 वाहनों से तड़के यहां से चला. इससे पहले 270 किलोमीटर लंबा जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग को यातायात के लिए खोल दिया गया था. 

उन्नाव रेप पीड़िता के एक्सिडेंट मामले में BJP विधायक कुलदीप सेंगर के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज

सभी मौसम में कश्मीर को देश के बाकी हिस्सों से जोड़ने वाले इस राजमार्ग को भारी बारिश के बाद केल्ला मोड़ पर भूस्खलन होने और पांथियाल, डिगडोले, अनोखी झरने एवं मरूंग में पहाड़ से बड़े बड़े पत्थर गिरने के कारण रविवार को यातायात के लिए बंद कर दिया गया था. सड़क से मलबा हटाया गया और वह रविवार देर शाम को यातायात के लिए अनुकूल बना. अधिकारियों के मुताबिक मौसम में सुधार होने के साथ अमरनाथ यात्रियों के 26 वें जत्थे को कश्मीर की ओर जाने की इजाजत दी गयी और आशा है कि वे दिन में बाद में पवित्र अमरनाथ गुफा पहुंच जायेंगे.


 बाघों की संख्या में मध्य प्रदेश नंबर वन, जानिए दूसरे और तीसरे नंबर पर कौन सा राज्य

अधिकारियों का कहना है कि जम्मू से रवाना हुए इस नवीनतम जत्थे में से 1544 श्रद्धालु आगे की यात्रा के लिए पहलगाम आधार शिविर गये जबकि बाकी 1131 तीर्थयात्रियों ने बालटाल मार्ग पर जाना पसंद किया. 46 दिवसीय अमरनाथ यात्रा एक जुलाई को प्रारंभ हुई थी और उसका समापन 15 अगस्त को होगा. यह यात्रा 36 किलोमीटर लंबे पहलगाम और 14 किलोमीटर लंबे बालटाल मार्ग से चल रही है. अधिकारियों के अनुसार पहलगाम मार्ग पर 1136 तीर्थयात्रियों को ननवान आधारशिविर से सोमवार सुबह को पवित्र अमरनाथ गुफा जाने की इजाजत दी गयी, इस तरह वहां से यात्रा बहाल हुई. 

टिप्पणियां

उन्नाव रेप पीड़िता के एक्सिडेंट पर कुमार विश्वास का ट्वीट, 'नहीं तो देश पर गर्व करना तो दूर यहां जीना भी दूभर होगा'

हालांकि, बालटाल मार्ग पर यात्रा तीसरे दिन भी स्थगित रही क्योंकि रुक-रुक कर हो रही वर्षा से यह रास्ता तीर्थयात्रियों के लिए सुरक्षित नहीं है. अधिकारियों के मुताबिक सोमवार को आधे दिन तक 683 तीर्थयात्रियों ने बाबा बफार्नी के दर्शन किये जो मार्ग के विभिन्न ठहराव केंद्र से वहां पहुंचे थे अबतक 3,20,038 श्रद्धालुओं ने पवित्र शिवलिंग के दर्शन कर लिये हैं. अधिकारियों का कहना है कि दोनों मार्गों पर हेलीकॉप्टर सेवा भी सोमवार को बहाल कर दी गयी. रविवार को खराब मौसम के चलते हेलीकॉप्टर सेवा स्थगित कर दी गयी थी. 
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement