VIDEO: रियल लाइफ हीरो साबित हुए दो एंबुलेंस ड्राइवर, 3 हजार किमी की दूरी तय कर पार्थिव देह को चेन्‍नई से पहुंचाया मिजोरम

आइजल के मॉडल वेंग में रहने वाले 28 वर्षीय विवियन लालरेमसांगा का 23 अप्रैल को चेन्नई में निधन हो गया था. वह तमिलनाडु की राजधानी में एक निजी कंपनी के कर्मचारी थे. देशव्‍यापी लॉकडाउन के बीच उनके पार्थिव शरीर को आइजल तक पहुंचाना कठिन चुनौती थी.

VIDEO: रियल लाइफ हीरो साबित हुए दो एंबुलेंस ड्राइवर, 3 हजार किमी की दूरी तय कर पार्थिव देह को चेन्‍नई से पहुंचाया मिजोरम

तमिलनाडु के दो एंबुलेंस ड्राइवरों ने ताबूत को चेन्‍नई से आइजल पहुंचाया

आइजल, मिजोरम:

तमिलनाडु के एम्बुलेंस के दो ड्राइवरों को मिजो मूल के एक युवक की पार्थिव देह को आइजल तक पहुंचाने के लिए आम लोगों की जमकर तारीफ मिल रही है.ये दोनों एंबुलेंस ड्राइवर 3 हजार किमी से अधिक की दूरी तय करके बुधवार सुबह ताबूत लेकर आइजल पहुंचे. मिजोरम के निवासी इस युवक की पिछले सप्‍ताह हार्ट अटैक के कारण चेन्‍नई में मौत हो गई थी. मिजोरम के सीएम ज़ोरमथांगा द्वारा ऑनलाइन पोस्ट किए गए दिल को छू लेने वाले इस वीडियो में आइजल की अपेक्षाकृत सुनसान सड़कों पर एंबुलेंस को जाते हुए देखा जा सकता है और कतार में खड़े लोग ताली बजाकर इन दोनों एंबुलेंस ड्राइवरोंकी प्रशंसा कर रहे हैं. कोरोना वायरस की महामारी के कारण मिजोरम में भी लॉकडाउन लागू है. एक अन्‍य वीडियो में एंबुलेंस को घर के बार खड़ा दिखाया गया है और लोग ताली बजाकर दोनों ड्राइवरों को हौसले को सेल्‍यूट कर रहे हैं. सीएम ज़ोरमथांगा ने अपने ट्वीट में लिखा, ''मिजोरम इस तरह रियल लाइफ हीरोज का स्‍वागत करता है क्‍योंकि हम मानवता और राष्‍ट्रीयता पर यकीन करते हैं. उन्‍होंने आगे लिखा- दिल की गहराइयों से आपको धन्‍यवाद. आपने अभी दिखाया है कि हर मिजो दिल की धड़कन का क्या मतलब है!"

गौरतलब है कि आइजल के मॉडल वेंग में रहने वाले 28 वर्षीय विवियन लालरेमसांगा का 23 अप्रैल को चेन्नई में निधन हो गया था. वह तमिलनाडु की राजधानी में एक निजी कंपनी के कर्मचारी थे. देशव्‍यापी लॉकडाउन के बीच उनके पार्थिव शरीर को आइजल तक पहुंचाना कठिन चुनौती थी. दो एंबुलेंस ड्राइवर जेयंतिजरन और चिन्‍नाथंबी ने इस चुनौती को स्‍वीकार करते हुए अपनी सेवाएं दी. विवियन के दोस्‍त एवीएल मालछनिमा भी इन दोनों के साथ आए. इन तीनों चेन्‍नई शहर से चार दिन पहले रवाना हुए थे और करीब 84 घंटे की ड्राइविंग के बाद मिजोरम की राजधानी आइजल पहुंचे, जहां लालरेमसांगा की पार्थिव देह को 'समेटे' ताबूत उनके परिजनों को सौंपा गया. बाद में सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों को पूरी तरह पालन करते हुए अंतिम संस्‍कार की प्रक्रिया पूरी की गई

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com