Coronavirus: महाराष्ट्र में जिन संदिग्ध मरीज़ों को घर पर किया गया क्वारैन्टाइन, उनके हाथ पर लगाई जा रही है मुहर

वहीं, महाराष्ट्र के नासिक स्थित सिविल अस्पताल में कोरोना वायरस जैसे लक्षणों वाले दो और व्यक्तियों को सोमवार को भर्ती कराया गया. वहीं इस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए शहर में धारा 144 लगा दी गई है.

मुंबई:

कोरोनावायरस के सबसे ज़्यादा मामले, यानी 39 मामले झेलने वाले महाराष्ट्र में एक अभूतपूर्व कार्रवाई के तहत उन संदिग्ध मरीज़ों के हाथ पर मुहर लगाई जा रही है, जिन्हें घर पर ही क्वारैन्टाइन किया गया है. इस मुहर को बाएं हाथ की हथेली की पुश्त पर लगाया जा रहा है, जिस पर HOME QUARANTINED के साथ-साथ वह तारीख भी लिखी गई है, जब तक कोरोनावायरस के संदिग्ध मरीज़ को क्वारैन्टाइन रहने की ज़रूरत है.

सोमवार को महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने घोषणा की थी कि कोरोनावायरस के संदिग्ध मरीज़ों को आसानी से पहचान लेने के उद्देश्य से मुहर लगाने का फैसला किया गया है. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता में शीर्ष अधिकारियों की एक बैठक हुई थी, जिसमें लिए गए इस फैसले को सावधानी के नाते उठाया गया कदम बताया गया था.

इसके बाद सोमवार देर शाम को ग्रेटर मुंबई म्यूनिसिपल कमिश्नर प्रवीण परदेशी ने अस्पतालों और एयरपोर्टों पर तैनात सभी अधिकारियों को आदेश जारी कर घरों में क्वारैन्याइन किए गए संदिग्ध मरीज़ों के बाएं हाथ की हथेली की पुश्त पर ऐसी स्याही से आइसोलेशन में रखे जाने की तारीख समेत मुहर लगाने के लिए कहा गया, जो 14 दिन तक मिट नहीं पाए.

वहीं, महाराष्ट्र के नासिक स्थित सिविल अस्पताल में कोरोना वायरस जैसे लक्षणों वाले दो और व्यक्तियों को सोमवार को भर्ती कराया गया. वहीं इस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए शहर में धारा 144 लगा दी गई है. अस्पताल सूत्रों के अनुसार, अस्पताल में भर्ती इन दो मामलों के साथ अस्पताल में वर्तमान में आठ मरीजों का इलाज चल रहा है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

इस बीच जिला कलेक्टर सूरज मंधारे ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि अभी तक 23 संदिग्धों की कोरोना वायरस की जांच की गई है. उन्होंने कहा कि इनमें से 20 की रिपोर्ट निगेटिव आयी है जबकि बाकी की रिपोर्ट का इंतजार है.

पुलिस ने शहर पुलिस कमिश्नरेट के क्षेत्राधिकार में आने वाले क्षेत्र में धारा 144 लगा दी है जिसके तहत लोगों के एक जगह एकत्रित होने पर रोक है. पुलिस उपायुक्त लक्ष्मीकांत पाटिल ने इस संबंध में एक अधिसूचना जारी की.