NDTV Khabar

CAA के खिलाफ चल रहे विरोध के बीच पुलिस ने मानवाधिकार कार्यकर्ता से पूछा, 'आप हिंदू, फिर आपकी दोस्ती मुसलमानों से क्यों?'

जेल से रिहा होने के बाद वर्मा ने कहा कि पुलिस ने उन्हें हिरासत में लेने के बाद बार-बार पूछा, "आप एक हिंदू हैं, फिर आपकी दोस्ती मुसलमानों के साथ क्यों है?"

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
CAA के खिलाफ चल रहे विरोध के बीच पुलिस ने मानवाधिकार कार्यकर्ता से पूछा, 'आप हिंदू, फिर आपकी दोस्ती मुसलमानों से क्यों?'

प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली:

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन के सिलसिले में 20 दिसंबर को लखनऊ से गिरफ्तार किए गए मानवाधिकार कार्यकर्ता रॉबिन वर्मा को मंगलवार को जेल से रिहा कर दिया गया. उन्हें पिछले हफ्ते मानत मिली थी. जेल से रिहा होने के बाद वर्मा ने कहा कि पुलिस ने उन्हें हिरासत में लेने के बाद बार-बार पूछा, "आप एक हिंदू हैं, फिर आपकी दोस्ती मुसलमानों के साथ क्यों है?" वर्मा ने आरोप लगाया कि उन्हें पुलिसकर्मियों द्वारा शारीरिक रूप से प्रताड़ित और अपमानित किया गया. इसके साथ ही पुलिस ने उन्हें चेतावनी दी कि उनकी पत्नी और नाबालिग बेटी के साथ भी ऐसा ही किया जाएगा.

बेंगलुरु में दुकानों और दीवार पर CAA,NRC विरोधी नारे लिखे गये, पुलिस ने जांच शुरू की


वर्मा ने बताया कि पुलिस ने उनके मोबाइल फोन की जांच की और उनके फोन व व्हाट्सएप सूची में कई मुस्लिमों के नंबर पाए जाने पर उन्हें फटकार लगाई. पुलिस ने कथित तौर पर वर्मा से पूछा, "आप उनके (मुस्लिमों) साथ कहां जाते हैं और आपके इतने सारे मुसलमान दोस्त क्यों हैं?" उन्होंने दावा किया कि पुलिसकर्मियों ने उनकी पत्नी के लिए भी अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया. पुलिस ने वर्मा को 20 दिसंबर को एक राष्ट्रीय दैनिक के पत्रकार के साथ हिरासत में लिया था, जब वे हजरतगंज इलाके में एक रेस्तरां में भोजन कर रहे थे.

टिप्पणियां

पश्चिम बंगाल BJP अध्यक्ष दिलीप घोष के खिलाफ शिकायत दर्ज, जानें क्या है मामला...

इसके बाद कार्यकर्ता को हजरतगंज पुलिस थाने और फिर सुल्तानगंज स्टेशन ले जाया गया, जहां उन्हें कथित तौर पर थप्पड़ और घूंसे मारे गए और उन्हें चमड़े की बेल्ट से भी पीटा गया. वर्मा ने कहा कि उन्हें पुलिसकर्मियों ने बिना वर्दी के पीटा. उन्होंने कहा कि उन्हें थाने में हिरासत के दौरान कंबल, भोजन और पानी से वंचित रखा गया. अपने खिलाफ लगाए गए आरोपों से इनकार करते हुए वर्मा ने कहा कि वह किसी भी हिंसा का हिस्सा नहीं थे, और उन्होंने शांतिपूर्ण तरीके से विरोध जताया था.



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


 Share
(यह भी पढ़ें)... दिल्ली विधानसभा चुनाव : बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कार्यकर्ताओं को समझाई जीत की रणनीति

Advertisement