जम्मू-कश्मीर में तनाव के बीच बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर ने किया ट्वीट, कहा- कश्मीर समस्या का समाधान शुरू...

बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर (Anupam Kher) ने अपने ट्वीट में लिखा कि कश्मीर की समस्या का समाधान शुरू हो गया है.

जम्मू-कश्मीर में तनाव के बीच बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर ने किया ट्वीट, कहा- कश्मीर समस्या का समाधान शुरू...

जम्मू-कश्मीर के हालात पर अनुपम खेर ने किया ट्वीट

खास बातें

  • अनुपम खेर ने कहा - समस्या का समाधान शुरू हो गया
  • जम्मू-कश्मीर में स्थिति तनावपूर्ण
  • जम्मू-कश्मीर के कई नेता किए गए नजरबंद
नई दिल्ली:

जम्मू-कश्मीर में मौजूद तनाव के बीच बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर (Anupam Kher) ने जम्मू-कश्मीर समस्या के समाधान को लेकर एक ट्वीट किया है. उन्होंने (Anupam Kher) अपने ट्वीट में लिखा कि कश्मीर की समस्या का समाधान शुरू हो गया है. बता दें कि अनुपम खेर (Anupam Kher) पीएम मोदी और मोदी सरकार द्वारा लिए गए फैसलों की हमेशा से तारीफ करते रहे हैं. यही वजह है कि वह कश्मीर में अतिरिक्त सेना की तैनाती और राज्य के बड़े नेताओं को नजरबंद करने  जैसी घटनाओं को जम्मू-कश्मीर समस्या के समाधान के लिए एक सकारात्मक पहल के तौर पर देख रहे हैं. 

गौरतलब है कि जम्मू कश्मीर (Jammu Kashmir) में जारी असमंजस की स्थिति के बीच रविवार से ही पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती और उमर अब्दुल्ला को नजरबंद (House Arrest) कर दिया गया है. नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) के अलावा सज्जाद लोन को भी नजरबंद (House Arrest) किया गया है. सूत्रों ने NDTV को यह जानकारी दी है. इसके अलावा श्रीनगर जिले में धारा 144 भी लगा दी गई है और स्कूल, कॉलेजों को बंद रखने के निर्देश दिए गए हैं. बता दें कि यह कदम ऐसे समय में आया है जब राज्य में सुरक्षाबलों की भारी तैनाती की जा रही है और तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को तुरंत कश्मीर छोड़ने के लिए कहा गया है.

इन खबरों के बीच पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर बताया, 'मुझे लगता है कि आज आधी रात से मुझे नजरबंद किया गया है और मुख्‍यधारा के अन्‍य नेताओं के लिए भी ये प्रक्रिया शुरू हो गई है.'

उधर पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती ने भी ट्वीट कर कहा, 'कैसी विडंबना है कि हमारे जैसे चुने हुए प्रतिनिधि जो शांति के लिए लड़े थे, घर में नजरबंद हैं. दुनिया देख रही है कि जम्‍मू-कश्‍मीर में लोगों और उनकी आवाज को दबाया जा रहा है. वह कश्मीर जिसने एक धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक भारत को चुना था, अकल्पनीय उत्पीड़न का सामना कर रहा है. जागो भारत जागो.'

वहीं, कांग्रेस नेता शशि थरूर (Shashi Tharoor) उमर अब्दुल्ला (Omar Abdullah) के समर्थन में आए और कहा कि आप अकेले नहीं हैं. कांग्रेस नेता शशि थरूर ने उमर अब्‍दुल्ला के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, 'आप अकेले नहीं हैं उमर अब्‍दुल्‍ला. हर लोकतांत्रिक भारतीय कश्‍मीर के मुख्‍यधारा के नेताओं के साथ खड़ा है क्‍योंकि आप उसका सामना करेंगे जो भी देश के लिए सरकार के मन में है. संसद का सत्र अब भी चल रहा है और हमारी आवाज भी शांत नहीं होगी.

महबूबा मुफ्ती ने पीएम मोदी से की अपील, कहा- राज्य के विशेष दर्जे के साथ छेड़छा़ड न करें

बता दें कि इससे पहले बीजेपी को छोड़कर बाकी सियासी पार्टियों के बीच सर्वदलीय बैठक हुई. सुरक्षा कारणों के चलते होटल में बैठक की इजाज़त नहीं दी गई थी. इसके बाद नेशनल कॉन्फ़्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला के घर सर्वदलीय बैठक हुई थी. बैठक में पीडीपी अध्यक्ष और पूर्व सीएम महबूबा मुफ़्ती, पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला और कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गुलाम अहमद मीर, पीपुल्स मूवमेंट के नेता शाह फैसल और सज्जाद लोन भी शामिल हुए थे. सर्वदलीय बैठक के बाद फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि पहचान, स्वायत्तता और जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे को लेकर सभी पार्टियां एक साथ हैं. उन्होंने लोगों से अमन की अपील भी की.

यह भी पढ़ें: अमरनाथ यात्रा रोकने के मामले पर बोले दिग्विजय सिंह, झूठ बोल रही है मोदी सरकार, बड़ी कार्रवाई के लक्षण

Newsbeep

नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने बैठक में स्वीकार किए गए प्रस्ताव के हवाले से कहा था कि पार्टियों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राजनीतिक दलों के नेताओं से मिलने के लिए प्रतिनिधिमंडल भेजने तथा संविधान के अनुच्छेद 370 और 35-ए को रद्द करने की किसी कोशिश के परिणामों से उन्हें अवगत कराने का फैसला किया है. बैठक में यह भी कहा गया कि 35 ए और 370 से छेड़छाड़ को किसी भी हाल में मंजूर नहीं किया जाएगा. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


यह भी पढ़ें: 'कल के बारे में नहीं जानता लेकिन आज चिंतित होने की जरूरत नहीं'- जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिकबैठक में पार्टियों ने भारत और पाकिस्तान से ऐसा कोई कदम नहीं उठाने की अपील की है, जो क्षेत्र में तनाव बढ़ाता हो. उन्होंने राज्य के लोगों से शांति बनाए रखने की भी अपील की. यह बैठक महबूबा के आवास पर प्रस्तावित थी, लेकिन अब्दुल्ला के खराब स्वास्थ्य को देखते हुए इसका आयोजन नेकां नेता के आवास पर हुआ. सुरक्षा कारणों को लेकर जम्मू कश्मीर प्रशासन ने शुक्रवार को अमरनाथ यात्रा बीच में ही रोक दी और तीर्थयात्रियों एवं पर्यटकों से यथाशीघ्र घाटी छोड़ने को कहा था.