गृहमंत्री अमित शाह की राहुल गांधी को चुनौती- हो जाएंगे 1962 से आज तक दो-दो हाथ

गृहमंत्री अमित शाह ने लद्दाख में हुई घटना पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी को संसद में बहस की चुनौती दी है. उन्होंने कहा कि संसद में बहस करें  और 1962 से आज तक दो-दो हाथ हो जाएंगे. न्यूज ANI से बातचीत में अमित शाह से राहुल गांधी की ओर से हाल ही में चीन के मुद्दे पर पीएम मोदी पर किए गए हमले को लेकर सवाल पूछा गया था.

गृहमंत्री अमित शाह की राहुल गांधी को चुनौती- हो जाएंगे 1962 से आज तक दो-दो हाथ

अमित शाह ने कोरोना पर मनीष सिसोदिया के बयान से भय फैल गया.

नई दिल्ली :

गृहमंत्री अमित शाह ने लद्दाख में हुई घटना पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी को संसद में बहस की चुनौती दी है. उन्होंने कहा कि संसद में बहस करें  और 1962 से आज तक दो-दो हाथ हो जाएंगे. न्यूज ANI से बातचीत में अमित शाह से राहुल गांधी की ओर से हाल ही में चीन के मुद्दे पर पीएम मोदी पर किए गए हमले को लेकर सवाल पूछा गया था. उन्होंने कहा, पार्लियामेंट होनी है, चर्चा करनी है तो आइये, करेंगे. 1962 से आज तक दो-दो हाथ हो जाएं. उन्होंने कहा कि राहुल गांधी इस समय एक छिछली सोच वाली राजनीति में शामिल हैं. शाह ने कहा कि चीन के मुद्दे पर बहस के लिए तैयार हैं.  उन्होंने कहा कि साफ कर दूं कि पीएम मोदी की अगुवाई में भारत दोनों ही लड़ाई जीतने जा रहा है. उनका यह बयान कोरोना और सीमा पर जारी तनाव को लेकर था.  उन्होंने कहा कि भारत सरकार कोरोना से बहुत अच्छी से लड़ रही है. इसके साथ अमित शाह ने कहा कि वह राहुल गांधी को सलाह नहीं दे सकते हैं यह उनके पार्टी नेताओं की काम है. शाह ने कहा कि कुछ लोगों की वक्रदृष्टि होती है ऐसे लोग सही में भी हमेशा गलत ढूंढते हैं. शाह ने कहा कि कोरोना से भारत अच्छी तरह से लड़ा है और हमारे नंबर बाकी देशों से अच्छे हैं.

कांग्रेस पर निशाना साधते हुए अमित शाह ने कगा कि इंदिरा जी के बाद क्या गांधी परिवार के अलावा भी कोई अध्यक्ष रहा है. किस लोकतंत्र की वे बात कर रहे हैं. मैंने किसी कोरोन संकट के समय किसी भी तरह की राजनीति नहीं की है. मैं बीते 10 सालों से 25 जून के दिन ट्वीट करता हूं. उन्होंने कहा कि आपातकाल को लोगों को हमेशा याद रखना चाहिए क्योंकि इसने लोकंतत्र की जड़ों पर हमला किया. किसी भी नागरिक या राजनीतिक कार्यकर्ता को भूलना नहीं चाहिए.

Newsbeep

गृहमंत्री शाह ने कहा कि वो भारत के खिलाफ चलाए जा रहे प्रोपेगेंडा से निपटने में सक्षम हैं लेकिन यह दुख की बात है कि एक बड़ी पार्टी के पूर्व अध्यक्ष कोरोना संकट के समय ओछी राजनीति कर रहे हैं. यह विषय उनके और उनकी पार्टी के लिए फिर से विचार के लिए है. उनके ट्वीटर उनकी ओर से चलाए जा रहे हैशटैग चीन और पाकिस्तान का समर्थन मिल रहा है. 

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं दिल्ली में कोरोना वायरस  के संक्रमण के मुद्दे पर अमित शाह ने कहा कि वह उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के कथन से असहमत हैं कि दिल्ली में जुलाई के अंत तक 5.5 लाख केस हो जाएंगे. उनको कहा कि इससे लोगों में भय फैल गया. अमित शाह ने कहा, मुझे पक्का विश्वास है कि ऐसी स्थिति नहीं होगी.