NDTV Khabar

त्रिपुरा विधानसभा चुनाव : अमित शाह बोले, हिंसा और वाम दल का चोली दामन का नाता

अमित शाह ने कहा कि सीपीआईएम के 25 साल के कार्यकाल में 7 लाख से अधिक लोग बेरोज़गार है. इतने छोटे से राज्य में जिस प्रकार से बरोज़गार की संख्या बड़ी है उसका जवाब माणिक सरकार के पास नहीं है. उन्‍होंने कहा कि त्रिपुरा में अगली सरकार भारतीय जनता पार्टी की बनने जा रही है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
त्रिपुरा विधानसभा चुनाव : अमित शाह बोले, हिंसा और वाम दल का चोली दामन का नाता

अमित शाह ने त्रिपुरा में की प्रेस कॉन्‍फ्रेंस

नई दिल्ली: त्रिपुरा में बीजेपी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष अमित शाह ने कहा कि हिंसा और वाम दल का चोली दामन का नाता रहा है. देश भर में जहां-जहां वाम दल कि सरकार है वहां-वहां हिंसा बड़ी है. हम इससे नहीं डरते है, त्रिपुरा की जनता हमारे साथ है और त्रिपुरा में परिवर्तन निश्चित होने जा रहा है.

अरुण जेटली बोले, जल्द लोकसभा चुनाव की संभावना नहीं

उन्‍होंने कहा कि सीपीआईएम के 25 साल के कार्यकाल में 7 लाख से अधिक लोग बेरोज़गार है. इतने छोटे से राज्य में जिस प्रकार से बरोज़गार की संख्या बड़ी है उसका जवाब माणिक सरकार के पास नहीं है. उन्‍होंने कहा कि त्रिपुरा में अगली सरकार भारतीय जनता पार्टी की बनने जा रही है. 

अमित शाह ने कहा कि पूरे राज्य में सीपीआईएम सरकार के खिलाफ गुस्‍सा है क्‍योंकि उनके कुशासन के चलते त्रिपुरा आखिर पायदान पर है जबकि वह विकास की बात के साथ सत्‍ता में आए थे. उन्‍होंने कहा कि मोदी सरकार ने कई योजनाओं के तहत फंड जारी किया लेकिन सीपीआईएम की सरकार ने विकास का कोई काम नहीं किया. उन्‍होंने कहा कि सीपीआईएम की सरकार के चलते त्रिपुरा के लोग मोदी सरकार की कल्याणकारी योजनाओं से वंचित हैं. उन्‍होंने कहा कि बीजेपी हर विधानसभा क्षेत्र में एक डिग्री कॉलेज बनाएगी. 

त्रिपुरा विधानसभा चुनाव : 'भाजपा की तरह हमारे पास धन की ताकत नहीं है लेकिन...'

वहीं रविवार को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने गोमती और पश्चिम त्रिपुरा जिलों में रैलियों में कहा कि त्रिपुरा के लोगों को राज्य के पिछड़ापन के लिए जिम्मेदार ठहराया जाएगा क्योंकि उन्होंने पिछले 25 सालों में बदलाव के लिए मतदान नहीं किया.

टिप्पणियां
उन्होंने गोमती में एक जनसभा में कहा, ‘‘मैं मुख्यमंत्री माणिक सरकार या उनके मंत्रिमंडल को आपके पिछड़ेपन के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराऊंगा. बल्कि मैं आपको जिम्मेदार मानूंगा क्योंकि आपने 25 सालों में कोई बदलाव नहीं किया.’’  त्रिपुरा में 18 फरवरी को विधानसभा चुनाव है और मतगणना तीन मार्च को होगी.

VIDEO: त्रिपुरा में बीजेपी का नारा- चलो पलटाई

गडकरी ने कहा, ‘‘यहां अस्पताल हैं लेकिन डॉक्टर नहीं. आपको स्कूल मिल जायेंगे लेकिन शिक्षक नहीं. राज्य में एक भी अच्छा उद्योग नहीं है और रोजगार सृजन के मुद्दे की अनदेखी बनी हुई है.’’  उन्होंने कहा, ‘‘यदि भाजपा सत्ता में आयी तो वह राज्य में निवेश लाने और युवाओं के वास्ते रोजगार सृजित करने की पहल करेगी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement