NDTV Khabar

राज्यसभा सदस्यता के साथ पार्टी प्रमुख का पद भी संभालने को अमित शाह तैयार

अमित शाह ने कहा कि उनके पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ने का कोई सवाल ही नहीं है और वह अपनी जिम्मेदारी को पूरी खुशी और तन्मयता से निभा रहे हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
राज्यसभा सदस्यता के साथ पार्टी प्रमुख का पद भी संभालने को अमित शाह तैयार

राज्यसभा के लिए नामांकन दाखिल करते बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह.

खास बातें

  1. पार्टी में एक व्यक्ति एक पद का नियम है
  2. अमित शाह अभी विधायक हैं और पार्टी प्रमुख भी हैं.
  3. अमित शाह ने आज लखनऊ में मीडिया से बात की.
लखनऊ: बीजेपी हमेशा से यह कहती आई है कि एक व्यक्ति एक पद का सिद्धांत पार्टी में लागू है. वहीं आज राज्यसभा में जाने की स्थिति में बीजेपी अध्यक्ष पद छोड़ने की अटकलों को विराम देते हुए अमित शाह ने कहा कि उनके पार्टी अध्यक्ष पद छोड़ने का कोई सवाल ही नहीं है और वह अपनी जिम्मेदारी को पूरी खुशी और तन्मयता से निभा रहे हैं. वैसे पार्टी में एक व्यक्ति एक पद के नियम के दायरे में बात नहीं आती है. 

शाह ने राज्यसभा का सदस्य बनने की स्थिति में भाजपा अध्यक्ष पद से इस्तीफे के प्रश्न पर कहा, 'कोई सवाल नहीं है. मुझ पर अध्यक्ष का दायित्व है. मैं खुश हूं और बड़ी तन्मयता से काम कर रहा हूं. आप लोग (मीडिया) धक्का मत लगाइये.' नरेन्द्र मोदी को आजादी के बाद देश का ‘सबसे लोकप्रिय प्रधानमंत्री’ करार देते हुए शाह ने कहा कि मोदी ने देश का सम्मान दुनिया में बढ़ाया है. मोदी के नेतृत्व में परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टीकरण का नासूर खत्म करने में कामयाबी मिली है.
VIDEO : लखनऊ में बीजेपी अध्यक्ष ने मीडिया से की बात

अमित शाह ने दावा किया कि 2019 में भाजपा और बड़े बहुमत से सरकार बनाएगी. इसमें कोई संशय नहीं है. मोदी सरकार का सुशासन ही इस दावे का आधार है. जिस तरह सरकार ने काम किया है, मुझे लगता है जनता हमें इससे ज्यादा बहुमत से काम करने का मौका देगी. भाजपा अध्यक्ष ने मोदी सरकार की सराहना करते हुए कहा कि इस सरकार के तीन साल के कार्यकाल में देश की जनता बहुत बड़ा परिवर्तन महसूस कर रही है. भाजपा के सत्ता संभालने से पहले 10 साल तक एक ऐसी सरकार चली, जिसमें हर महीने घपले और घोटाले उजागर होते थे. करीब 12 लाख करोड़ रूपये के घोटाले हुए जबकि मोदी सरकार पर उसके विरोधी भी भ्रष्टाचार का एक आरोप तक नहीं लगा पाये हैं.

उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती मनमोहन सिंह सरकार के लिये कहा जाता था कि उसका ‘पॉलिसी पैरालिसिस’ हुआ है. हर मंत्री खुद को प्रधानमंत्री समझता था और ‘बेचारे’ प्रधानमंत्री को कोई प्रधानमंत्री ही नहीं मानता था. शाह ने कहा कि अगर मोदी सरकार की उपलब्धियां गिनायेंगे तो बहुत समय लगेगा, लेकिन मोदी सरकार की विशेषता यह रही कि पिछले 50 सालों में सरकारें दो-तीन ही ऐसे काम करती हैं जो अहम होते हैं. इस सरकार ने तीन साल में 50 महत्वपूर्ण काम किये हैं. तीन साल में देश की अर्थव्यवस्था दुनिया का सबसे तेजी से बढ़ता अर्थतंत्र बन गया है. शेयर बाजार सर्वोच्च शिखर पर पहुंचा है और सभी प्रकार के वित्तीय मानक भाजपा सरकार ने बरकरार किये हैं.

उन्होंने कहा कि जब केन्द्र में मोदी सरकार की रचना हुई तो प्रधानमंत्री ने कहा था कि यह गरीबों, पिछड़ों, दलितों, आदिवासयों और वंचितों की सरकार होगी. सरकार ने इन वर्गों का स्तर उठाने के लिये बहुत काम किये. उज्ज्वला योजना के तहत पांच करोड़ में से दो करोड़ 60 लाख महिलाओं को कनेक्शन दिया जा चुका है. करोड़ों लोगों को बीमा कवच दिया गया. चार करोड़ 64 लाख बेरोजगारों को मुद्रा योजना का लाभ दिया गया.

शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने सभी दलों की सरकारों को संघीय भावना के अनुरूप साथ लेकर माल एवं सेवा कर (जीएस) लागू किया. सर्जिकल स्ट्राइक ने देश को मजबूत इरादे वाले देश की पहचान दी. इसके अलावा 'वन रैंक वन पेंशन' देकर जवानों का मनोबल और उनका सम्मान बरकरार रखा.
उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के कार्यकाल में एक साथ 104 उपग्रहों को अंतरिक्ष में प्रक्षेपित कर भारत अंतरिक्ष की दुनिया में ‘ग्लोबल लीडर’ बना. काले धन के मामले में कठोर मुहिम शुरू हुई. सबसे पहले सिंगापुर, मारीशस तथा कई अन्य देशों से आने वाले काले धन का रास्ता बंद किया गया. उसके बाद नोटबंदी के माध्यम से काला धन सामने लाया गया. उसके बाद बेनामी सम्पत्ति का कानून बनाया. चुनावी राजनीति को काले धन की गिरफ्त से छुड़ाया. आजादी के बाद काले धन के खिलाफ इतना बड़ा वैज्ञानिक प्रयास पहली बार किया गया. भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि मोदी सरकार ने 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में प्रतिष्ठापित कराया. वहीं, जलवायु और ग्लोबल वार्मिंग के मामले में भारत वैश्विक नेतृत्व दे रहा है.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement