जम्मू में आज रैली को संबोधित करेंगे अमित शाह

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पार्टी के संस्थापक अध्यक्ष श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस के मौके पर जम्मू के दौरे पर जा रहे हैं.

जम्मू में आज रैली को संबोधित करेंगे अमित शाह

अमित शाह की फाइल फोटो

खास बातें

  • श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस के मौके पर जम्मू जाएंगे शाह
  • गठबंधन टूटने के बाद जम्मू का यह पहला दौरा
  • जम्मू कश्मीर के भविष्य को लेकर भी दे सकते हैं बयान
नई दिल्ली:

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह कल जम्मू में एक रैली को संबोधित करेंगे. यह रैली ऐसे समय हो रही है जब हाल ही में उनकी पार्टी ने जम्मू कश्मीर में पीडीपी के नेतृत्व वाली सरकार से समर्थन वापस लिया है. पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रमुख अनिल बलूनी ने बताया  कि अमित शाह पार्टी के संस्थापक अध्यक्ष श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बलिदान दिवस के मौके पर शहर के एक दिन के दौरे पर जाएंगे. उन्होंने कहा कि शाह डिजिटल मीडिया और सोशल मीडिया से जुड़े कार्यकर्ताओं के साथ बैठक करेंगे और इसके अलावा दूसरे सांगठनिक कार्यक्रमों में भी हिस्सा लेंगे.

यह भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल ने कहा, बीजेपी ने जम्मू-कश्मीर को बर्बाद कर दिया

गौरतलब है कि राज्य में पीडीपी के साथ गठबंधन टूटने के बाद यह पहला मौका होगा जब अमित शाह जम्मू के दौरे पर जा रहे हैं. गठबंधन के टूटने के बाद राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था. इस्तीफे के बाद उन्होंने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की थी. इसमें उन्होंने कहा था कि हमने एक बड़े वीजन के तहत गठबंधन किया था. मुफ्ती साहब ने बीजेपी के साथ बड़े मकसद से हाथ मिलाया था. मुफ्ती साहब ने सोचा था कि पीएम को एक बहुत बड़ा जनादेश मिला है और वह जम्मू कश्मीर के हालात के लिए कुछ काम करेंगे. हमें कई महीने लगे आपस में तालमेल बिठाने में. हमने सोचा था कि गठबंधन अच्छा चलेगा.

यह भी पढ़ें: इस्तीफे के बाद बोलीं महबूबा मुफ्ती, BJP के साथ गठबंधन पावर के लिए नहीं था

उन्होंने कहा कि हम चाहते थे कि संवद हो. रमजान के दौरान संघर्ष विराम से लोग काफी खुश थे. पीडीपी नेता महबूबा मुफ्ती ने कहा कि हम कश्मीर में संवाद और सुलह - समझौता के लिए प्रयासरत रहेंगे. उन्होंने कहा कि हमने यह गठबंधन पावर के लिए नहीं किया था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

VIDEO: कश्मीर के मुद्दे पर बीजेपी ने कांग्रेस पर किया वार.

हमने 11 हजार नौजवानों के खिलाफ केस वापस करवाई. महबूबा ने कहा कि जोर जबर्दस्ती से जम्मू-कश्मीर में कोई नीति नहीं लागू हो सकती है. महबूबा मुफ्ती ने कहा कि हमने राज्यपाल से कहा है कि हम किसी और पार्टी को समर्थन नहीं देगें. उन्होंने कहा कि हमने यहां धारा 370 को महफूज रखा है. (इनपुट भाषा से)