NDTV Khabar

वायुसेना का विमान जब लापता हुआ, उस वक्त पायलट की पत्नी थीं एटीसी ड्यूटी पर

जब एएन-32 विमान लापता हुआ तब इस विमान के पायलट आशीष तंवर की पत्नी संध्या तंवर एयरफोर्स के जोरहाट स्थित एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) में ड्यूटी पर थीं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वायुसेना का विमान जब लापता हुआ, उस वक्त पायलट की पत्नी थीं एटीसी ड्यूटी पर

लापता विमान के पायलट आशीष तंवर थे और उस वक्त उनकी पत्नी संध्या एटीसी ड्यूटी पर थीं.

खास बातें

  1. लापता विमान का नहीं चल पाया है पता
  2. जोरशोर से जारी है तलाशी अभियान
  3. एयरफोर्स के अलावा सेना और नौसेना भी अभियान में शामिल
नई दिल्ली :

भारतीय वायुसेना के अरुणाचल प्रदेश में लापता परिवहन विमान एएन-32 का चौथे दिन भी कुछ पता नहीं चल पाया. फिलहाल वायुसेना, आर्मी, आईटीबीपी और नौसेना के अलावा इसरो तलाशी अभियान में जुटा है. इस बीच एक नई जानकारी सामने आ रही है. दरअसल, जब एएन-32 विमान लापता हुआ तब इस विमान के पायलट आशीष तंवर की पत्नी संध्या तंवर एयरफोर्स के जोरहाट स्थित एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) में ड्यूटी पर थीं. आशीष तंवर ने जोरहाट से ही अरुणाचल प्रदेश के मेंचुका के घने जंगल के लिये उड़ान भरी थी. पत्नी संध्या एटीसी पर विमान की सारी गतिविधि देख रही थीं, लेकिन आधे घंटे के अंदर ही अचानक विमान रडार से गायब हो गया. एएन-32 के पायलट आशीष तंवर की पत्नी संध्या तंवर ने सोचा भी नहीं होगा कि सोमवार का दिन उनके लिये इतना बुरा साबित होगा.  

भारतीय वायुसेना के लापता विमान AN-32 का पता नहीं चला, नौसेना ने भी शुरू की खोज


संध्या उन लोगों में से पहली थीं जिन्हें वायुसेना के इस विमान के लापता होने का पता चला. विमान में 12 और लोग सवार थे. संध्या एयर ट्रैफिक कंट्रोल अधिकारी हैं और वह जोरहाट वायुसेना अड्डे पर तैनात हैं. संध्या का विवाह 2018 में आशीष तंवर से हुआ था और उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति में वे दोनों अलग होंगे. रूस में बने इस विमान की चार दिन से तलाश जारी है और इसका पता लगाने के लिये बचाव अभियान चलाया जा रहा है. समय बढ़ने के साथ इन सभी के परिजनों का तनाव और नाउम्मीदी भी बढ़ रही है. वायुसेना का कहना है कि विमान ने दोपहर 12 बजकर 27 मिनट पर अरुणाचल के शि-योमी जिले में स्थित मेंचुका एडवांस लैंडिंग ग्राउंड के लिये उड़ान भरी थी और ग्राउंड कंट्रोल से विमान का आखिरी बार संपर्क दिन में एक बजे हुआ था.  

सूत्रों के अनुसार फ्लाइट लेफ्टिनेंट रैंक की अधिकारी संध्या उस वक्त एटीसी में ड्यूटी पर ही थीं. विमान में उनके 29 वर्षीय पति और 12 अन्य लोग थे. हरियाणा के पलवल के रहने वाले आशीष तंवर अपनी बी.टेक की डिग्री पूरी करने के बाद दिसंबर 2013 में वायुसेना में शामिल हुए थे. पलवल स्थित उनके गांव में गम का माहौल है. आशीष की मां सरोज ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपील की है कि विमान और लापता लोगों की तलाश में सभी उपलब्ध संसाधनों का प्रयोग किया जाए. इस विमान में पांच यात्री और चालकदल के आठ सदस्य सवार थे. दों इंजन वाले टर्बो प्राप रूस निर्मित एएन-32 पर्याप्त संख्या में प्रयोग में लाये जा रहे हैं. जून 2009 में भी अरुणाचल प्रदेश के पश्चिमी सियांग जिले के एक गांव में एएन-32 विमान दुर्घटनाग्रस्त हुआ था और इसमें सवार 13 सैन्यकर्मियों की मौत हो गई थी. जुलाई 2016 में भी एक अन्य एएन-32 विमान तब लापता हो गया था जब वह चेन्नई से पोर्ट ब्लेयर जा रहा थ.  इस विमान में 29 लोग सवार थे. (इनपुट- भाषा) 

टिप्पणियां

VIDEO : लापता विमान को खोजने के लिए अभियान जारी



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement