एम्स के एक सिक्योरिटी गार्ड को वैक्सीन लेने के बाद एलर्जी हुई, हालत स्थिर : निदेशक

Delhi Covid Vaccination : एम्स के एक सिक्योरिटी गार्ड को शनिवार कोरोना की वैक्सीन कोवैक्सीन लेने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया. इसे टीकाकरण के बाद गंभीर प्रतिकूल घटना माना गया. हालांकि उसकी हालत स्थिर है और रविवार सुबह उसे छुट्टी दी जा सकती है.

एम्स के एक सिक्योरिटी गार्ड को वैक्सीन लेने के बाद एलर्जी हुई, हालत स्थिर : निदेशक

Delhi Vaccination Starts : दिल्ली में भी 16 जनवरी से टीकाकरण शुरू हुआ.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली:

एम्स (AIIMS) के एक सिक्योरिटी गार्ड को शनिवार कोरोना की वैक्सीन कोवैक्सीन (Covaxin) लेने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया. कोविड वैक्सीन लेने के बाद एलर्जिक रिएक्शन होने के कारण ऐसा करना पड़ा. इसे टीकाकरण के बाद गंभीर प्रतिकूल घटना (severe adverse events) माना गया. हालांकि उसकी हालत स्थिर है और रविवार सुबह उसे छुट्टी दी जा सकती है. कोरोना टीकाकरण (Corona Vaccination) का कार्यक्रम देश भर में 16 जनवरी से शुरू हुआ है.

यह भी पढ़ें- CoWIN पर कैसे होगा पंजीकरण, वैक्सीनेशन की निगरानी रखने वाले ऐप की जानिए खास बातें...

Delhi एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया के अनुसार, 20 वर्षीय सिक्योरिटी गार्ड को शाम 4बजे  के करीब टीका दिया गया. उसने धड़कन बढ़ने की शिकायत की और 15-20 मिनट में उसकी स्किन में चकत्ते सामने आए. इसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया. गुलेरिया ने कहा, ‘‘उसका तत्काल उपयुक्त उपचार किया गया और उसकी स्थिति में सुधार है. अब उसकी हालत स्थिर है. एहतियात के तौर पर उसे रात भर के लिए चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है और उसकी स्थिति पर नजर रखी जा रही है. उसे सुबह में छुट्टी दिए जाने की संभावना है.''

आंकड़ों के अनुसार, एईएफआई (टीकाकरण के बाद के प्रभाव) का एक ‘गंभीर' एवं 51 ‘मामूली' मामले उन स्वास्थ्यकर्मियों में सामने आए, जिन्हें दिल्ली में शनिवार को कोविड-19 टीकाकरण के पहले दिन कोरोना वायरस टीका लगाया गया. दिल्ली के 11 जिलों में शनिवार को पहले दिन 8117 स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाने का लक्ष्य था, लेकिन 4319 को ही टीका लगाया जा सका, जो करीब 53 फीसदी है.

अधिकारियों का कहना है कि टीके के बाद मामूली प्रतिकूल घटनाओं (AEFI) वाले लोगों की निगरानी की जा रही है. एक शीर्ष अधिकारी का कहना है कि कुछ मामूली प्रतिकूल घटनाएं सामने आईं, लेकिन 30 मिनट के आर्ब्जवेशन पीरियड में ही ज्यादातर की स्थिति सामान्य हो गई. 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, टीकाकरण के बाद कोई अवांछित चिकित्सकीय घटना और जिसका जरूरी नहीं है कि वैक्सीन के इस्तेमाल को कोई संबंध हो भी, उसे एईएफआई (AEFI) कहा जाता है. आधिकारिक डेटा के अनुसार, दक्षिणी और दक्षिणपश्चिमी जिलों से एईएफआई के 11 मामले सामने आए.


उत्तरपूर्व और शाहदरा के जिलों को छोड़र अन्य सभी जिलों से भी ऐसे मामूली प्रतिकूल घटनाओं के मामले सामने आए. दिल्ली में शनिवार को 81 केंद्रों पर कोरोनावायरस वैक्सीन का टीकाकरण शुरू हुआ. हर केंद्र पर 100 लोगों को टीका देने का लक्ष्य था.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com