NDTV Khabar

देश और संसद से माफी मांगे हेगड़े, वरना PM उन्हें बर्खास्त करें: गुलाम नबी आजाद

गुलाम नबी आजाद ने देश के संविधान के बारे में विवादित बयान देने वाले भाजपा नेता और केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े से संसद और देश की जनता से माफी मांगने को कहा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
देश और संसद से माफी मांगे हेगड़े, वरना PM उन्हें बर्खास्त करें: गुलाम नबी आजाद

गुलाम नबी आजाद (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. आजाद ने कहा, देश और संसद से माफी मांगे हेगड़े
  2. 'माफी नहीं मांगने पर पीएम उन्हें बर्दाश्त करे'
  3. 'हेगड़े पहले भी बतौर सांसद विवादित बयान देते रहे हैं'
नई दिल्ली: राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आजाद ने देश के संविधान के बारे में विवादित बयान देने वाले भाजपा नेता और केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े से संसद और देश की जनता से माफी मांगने को कहा है. आजाद ने आज संसद के दोनों सदनों में हेगड़े के बयान पर हंगामे के कारण कार्यवाही स्थगित होने के बाद कहा कि सस्ती लोकप्रियता के लिये मंत्रियों द्वारा विवादित बयान देने की गलत परंपरा का सूत्रपात हुआ है. आजाद ने कहा कि हेगड़े अगर संसद के दोनों सदनों और देश की जनता से माफी नहीं मांगते हैं तो प्रधानमंत्री उन्हें मंत्रिमंडल से बर्खास्त करें.

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार में मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के 'संविधान बदलने' वाले बयान से भाजपा ने किया किनारा

आजाद ने कहा ‘‘हेगड़े पहले भी बतौर सांसद विवादित बयान देते रहे हैं, शायद इसी के इनाम में उन्हें मंत्री बनाया गया. हमें उम्मीद थी कि हेगड़े मंत्री बनने के बाद ऐसे बयान नहीं देंगे लेकिन ऐसा नहीं हुआ.’’ उच्च सदन में कांग्रेस संसदीय दल के नेता आजाद ने कहा कि हेगड़े ने अपने बयान में दो बातें कहीं, पहली भाजपा का सत्ता में आने का मकसद देश का संविधान बदलना है, और दूसरा धर्मनिरपेक्षता में यकीन करने वालों के खुद ‘बाप-दादाओं’ का पता ही नहीं है.आजाद ने कहा कि हेगड़े के दूसरे बयान से साफ है कि वह देश संविधान में विश्वास ही नहीं करते हैं. क्योंकि धर्मनिरपेक्षता संविधान का आधार स्तंभ है जिसे संविधान की प्रस्तावना में जगह दी गयी है.

यह भी पढ़ें: संसद के शीतकालीन सत्र में कैसे टूटा गतिरोध? पढ़ें पर्दे के पीछे की कहानी

टिप्पणियां
उन्होंने कहा कि संविधान की शपथ लेकर संविधान में यकीन नहीं करने वाले व्यक्ति को मंत्री पद पर रहने को कोई अधिकार नहीं है.आजाद ने कहा कि कांग्रेस ने सरकार से ऐसे व्यक्ति को मंत्री बनाने पर गंभीर आपत्ति दर्ज करा दी है. उन्होंने कहा ‘‘सरकार ने इस मुद्दे को सुलझाने के लिये एक दिन का समय मांगा है, देखते हैं सरकार क्या रुख अपनाती है.’’ उन्होंने कहा कि यह सिर्फ कांग्रेस का मत नहीं है बल्कि इस प्रकरण में समूचे विपक्ष का यही मत है, जिससे सभापति को अवगत करा दिया है.

VIDEO: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह पर लगे आरोप पर राज्‍यसभा में हंगामा
‘तीन तलाक’ को प्रतिबंधित करने से जुड़े विधेयक पर कांग्रेस के रुख के सवाल पर आजाद ने कहा कि पार्टी का जो भी रुख होगा वह देशहित में होगा और इस पर कांग्रेस का रुख कल सदन में विधेयक पेश होने पर ही स्पष्ट हो जायेगा.
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement