अन्ना हजारे की दो टूक, बोले- 2018 के आंदोलन में कोई 'केजरीवाल' पैदा नहीं होगा

जनलोकपाल और किसानों की बदहाली के खिलाफ आवाज मुखर करने वाले समाजसेवी अन्ना हजारे ने मंगलवार को अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा.

अन्ना हजारे की दो टूक, बोले- 2018 के आंदोलन में कोई 'केजरीवाल' पैदा नहीं होगा

अन्ना हजारे ने भरी हुंकार (फाइल फोटो)

खास बातें

  • अन्ना हजारे एक बार फिर से भरेंगे हुंकार
  • अन्ना बोले अब किसी को भी केजरीवाल नहीं बनने दूंगा.
  • 23 मार्च 2018 से दिल्ली के रामलीला मैदान में करेंगे सत्याग्रह
नई दिल्ली:

जनलोकपाल और किसानों की बदहाली के खिलाफ आवाज मुखर करने वाले समाजसेवी अन्ना हजारे ने मंगलवार को अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधा. अन्ना हजारे ने कहा कि साल 2011 में भ्रष्टाचार के खिलाफ उनके आंदोलन के बाद अरविंद केजरीवाल ने जब आम आदमी पार्टी बना ली तो उन्होंने उनसे कोई वास्ता नहीं रखा.उन्होंने कहा कि 23 मार्च 2018 से वह एक और आंदोलन शुरू करने वाले हैं और उम्मीद करते हैं कि इससे कोई नया ‘केजरीवाल’ पैदा नहीं होगा.

उन्होंने मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत में कहा कि 23 मार्च 2018 से दिल्ली के रामलीला मैदान में होने जा रहे तीन सूत्रीय आंदोलन में लोकपाल की नियुक्ति, किसानों की समस्या, चुनाव सुधार को लेकर जनता में जागरूकता पैदा करने का लक्ष्य है.

यह भी पढ़ें - खजुराहो में अन्ना हजारे ने एक दीवार पर कुछ ऐसा लिख दिया कि चर्चा दिल्ली तक!

उन्होंने कहा कि अब जो भी कार्यकर्ता आंदोलन के दौरान उनसे मिलेंगे स्टाम्प पेपर पर लिखकर देंगे कि वह कोई पार्टी नहीं बनायेंगे. साथ ही उन्होंने घोषणा की कि वह न तो किसी पार्टी का समर्थन करेंगे और ना ही किसी पार्टी से किसी को चुनाव लड़वाएंगे. वहीं, जीएसटी और नोटबंदी पर उन्होंने कहा कि सरकार का कहना कि बैंकों का 99 प्रतिशत पैसा जमा हो गया है तो कालाधन कहां गया.

यह भी पढ़ें - अण्णा हजारे ने पीएम को लिखा पत्र, पूछा- दिल्ली में किस जगह आंदोलन करें

Newsbeep

अन्ना हजारे ने मोदी सरकार पर भी जमकर निशाना साधा. उन्होंने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि पीएम मोदी ने कहा कि 30 दिन के अंदर कालाधन वापस देश में आएगा और हर आदमी के खाते में 15-15 लाख रुपये होंगे, लेकिन किसी के खाते में 15 रुपये तक नहीं आये.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


VIDEO: किसानों के मुद्दे पर अन्ना हजारे अब मोदी सरकार के खिलाफ करेंगे आंदोलन (इनपुट भाषा से)