NDTV Khabar

लोकपाल विधेयक पारित नहीं होने पर अन्ना ने दी अनशन की चेतावनी, अब आर-पार की लड़ाई होगी

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने कहा कि इस बार वह 'आर-या-पार' की लड़ाई लड़ेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
लोकपाल विधेयक पारित नहीं होने पर अन्ना ने दी अनशन की चेतावनी, अब आर-पार की लड़ाई होगी

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने कहा-कि मांग पूरी नहीं होने पर वह 23 मार्च से अनशन करेंगे.

खास बातें

  1. हजारे ने कहा कि इस बार वह 'आर-या-पार' की लड़ाई लड़ेंगे
  2. कहा- मांग पूरी नहीं होने पर वह 23 मार्च से अनशन करेंगे
  3. केजरीवाल-किरण बेदी को आंदोलन से जोड़ना जीवन की भूल थी
बेलगावी (कर्नाटक): सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने कहा कि लोकपाल, लोकायुक्त और चुनावी सुधार से संबंधित 'समुचित' विधेयक को पारित करने की उनकी मांग पूरी नहीं होने पर वह 23 मार्च से दिल्ली में अनशन करेंगे. हजारे ने कहा कि इस बार वह 'आर-या-पार' की लड़ाई लड़ेंगे.

यह भी पढ़ें : अन्ना हजारे की दो टूक, बोले- 2018 के आंदोलन में कोई 'केजरीवाल' पैदा नहीं होगा

उन्होंने कहा कि उन्हें इस बात की उम्मीद थी कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राजनीतिक व्यवस्था में परिवर्तन लाएंगे और देश को भ्रष्टाचार मुक्त बनाएंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने लोकायुक्त और लोकपाल विधेयकों को कमजोर कर दिया. हजारे ने आरोप लगाया कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने भी लोकपाल विधेयक को 'कमजोर' किया.

टिप्पणियां
VIDEO : इतने सालों बाद भी अटका हुआ लोकपाल


एक सवाल के जवाब में सामाजिक कार्यकर्ता ने कहा कि किरण बेदी और अरविंद केजरीवाल जैसे लोगों को अपने आंदोलन से जोड़ना उनके जीवन की भूल थी. उन्होंने कहा कि अतीत से सबक लेते हुए उन्होंने इस बार भ्रष्टाचार के खिलाफ उनसे जुड़ने वाले लोगों से 100 रुपये के स्टांप पेपर पर यह बांड भरवाया है कि वे किसी राजनीतिक पार्टी से नहीं जुड़ेंगे. उन्होंने कहा कि इसका उल्लंघन करने वालों के खिलाफ वह मामला दर्ज कराएंगे. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement