मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण के लिये भारत सरकार के अनुरोध का 'सम्मान' करेगा एंटीगुआ : रिपोर्ट

पीएनबी बैंक घोटाला मामले में नीरव मोदी के साथ मेहुल चौकसी भी भागीदार है.

मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण के लिये भारत सरकार के अनुरोध का 'सम्मान' करेगा एंटीगुआ : रिपोर्ट

मेहुल चोकसी को नवंबर 2017 में एंटीगुआ ने नागरिकता दी थी.

खास बातें

  • नवंबर 2017 में मिली थी नागरिकता
  • बैंक घोटाले में आरोपी है मेहुल चोकसी
  • प्रत्यर्पण के अनुरोध का इंतजार
नई दिल्ली:

एंटीगुआ के एक अखबार की खबर के मुताबिक वहां की सरकार ने संकेत दिया है कि वह भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के मामा मेहुल चौकसी को भारत वापस भेजने के ‘‘वैध अनुरोध’’ पर विचार कर सकता है. चौकसी ने एंटीगुआ की नागरिकता ले ली है.  अखबार डेयली ऑब्जर्वर ने आज चीफ ऑफ स्टाफ लियोनल ‘‘मैक्स’’ हर्स्ट द्वारा जारी मंत्रिमंडल की प्रेस ब्रीफिंग को उद्धृत किया जिसमें कहा गया है कि एंटीगुआ और बारबूडा सरकार भारत की तरफ से किये गए ‘‘वैध’’ अनुरोध का ‘‘कानून के मुताबिक’’ सम्मान करने के लिये हर संभव प्रयास करेगा. 

... तो इस वजह से भगोड़ा हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी ने ली एंटीगुआ की नागरिकता

मेहुल चौकसी को वापस भेजने के अनुरोध पर विचार करेगी एंटीगुआ सरकार 

अखबार ने कहा कि भारत में हजारों करोड़ के बैंक घोटाले के आरोपी भगोड़े चौकसी के पिछले साल नवंबर में एंटीगुआ की नागरिकता हासिल करने के मुद्दे पर एंटीगुआ और बारबूडा सरकार की कैबिनेट की बैठक में चर्चा हुई. अखबार ने कहा कि चौकसी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने की सीबीआई की अर्जी इंटरपोल के पास लंबित है और उम्मीद है कि इसे जल्द ही जारी कर दिया जाएगा. 

नीरव मोदी और मेहुल चौकसी की जब्त संपत्ति का गलत आकलन: सूत्र​

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


मंत्रिमंडल ने इस बात को रेखांकित किया कि उनकी भारत के साथ प्रत्यर्पण संधि नहीं है और चौकसी पर किसी अपराध के लिये मामला दर्ज नहीं है. अखबार ने यह भी कहा कि कैबिनेट ने इस बात पर भी संज्ञान लिया कि एंटीगुआ और बारबूडा सरकार से चौकसी के  खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई का कोई अनुरोध नहीं किया गया है.  

(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)