NDTV Khabar

स्टीव जॉब्स का भारत से खास नाता, उत्तराखंड में सेब खाकर बिताए थे 15 दिन

हम भारतीयों के लिए गर्व की बात है कि स्टीव जॉब्स का भारत से खास नाता है. स्टीव जॉब्स खुद स्वीकार चुके हैं कि उत्तराखंड के मंदिरों आने के बाद उनके जीवन बड़ा बदलाव हुआ.

878 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
स्टीव जॉब्स का भारत से खास नाता, उत्तराखंड में सेब खाकर बिताए थे 15 दिन

स्टीव जॉब्स का भारतीय अध्यात्म से गहरा लगाव रहा.

खास बातें

  1. आईफोन X के लांच होते ही स्टीव जॉब्स फिर से चर्चा में आ गए हैं
  2. स्टीव जॉब्स ने जीवन का लंबा वक्त भारत में बिताया था
  3. एप्पल कंपनी के नाम के पीछे है भारत से जुड़ी एक कहानी
नई दिल्ली : आईफोन X के लांच होते ही एप्पल के को-फाउंडर स्टीव जॉब्स एक बार फिर से चर्चा में आ गए हैं. सोशल मीडिया से लेकर सर्च ईंजन तक पर लोग स्टीव जॉब्स के बारे में पढ़-लिख रहे हैं. हम भारतीयों के लिए गर्व की बात है कि स्टीव जॉब्स का भारत से खास नाता है. स्टीव जॉब्स खुद स्वीकार चुके हैं कि उत्तराखंड के मंदिरों आने के बाद उनके जीवन बड़ा बदलाव हुआ. भारत से लौटने के बाद ही उन्हें एप्पल कंपनी बनाने की प्रेरणा मिली. स्टीव जॉब्स के साथ 'एप्पल' कंपनी का नामकरण का नाता भी भारत से जुड़ा है.

ये भी पढ़ें: स्टीव जॉब्स की वो बातें जो आपकी सोच बदल देगी

नीम करोली बाबा के आश्रम में स्टीव जॉब्स को मिला ज्ञान:  साल 1974 में स्टीव जॉब्स लीक से हटकर कुछ करना चाह रहे थे, तभी उनके किसी दोस्त ने सलाह दी कि वे भारत जाएं. इसी साल स्टीव जॉब्स अपने दोस्त के साथ उत्तराखंड पहुंचे. यहां वे कई मंदिरों और आश्रम में रहे. इसी दौरान वे नैनीताल स्थित नीम करौली बाबा के कैंची आश्रम पहुंचे. उस समय तक नीम करौली बाबा की मौत हो चुकी थी, लेकिन उन्होंने यहां 'ऑटोबायोग्राफी ऑफ एन योगी' नामक किताब पढ़ी. स्टीव जॉब्स खुद कह चुके हैं कि इस किताब को पढ़ने के बाद उनके विचार बदल गए और जीवन को देखने का उनका नजरिया बदल गया.
 
steve jobs
एप्पल के को-फाउंडर स्टीव जॉब्स युवा अवस्था में ऐसे दिखते थे.

ये भी पढ़ें: किताब ने किया खुलासा, आखि‍र जॉब्स ने बच्चों को आईपैड से दूर क्यों रखा...

भारत में जमीन में सोते थे स्टीव जॉब्स: स्टीव जॉब्स कहते थे उस क्षण को वह कभी नहीं भूल पाएंगे जब उन्होंने कॉलेज छोड़ने का फैसला किया. वह दोस्तों के साथ जमीन पर सोते थे और रविवार को दोस्तों के साथ 11 किमी पैदल चल कर खाने के लिए हरे कृष्णा मंदिर आया करते थे. भारतीय अध्यात्म में स्टीव की गहरी रुचि थी. 

ये भी पढ़ें: भारत का भविष्य उज्ज्वल, यहां 1000 साल तक रहेंगे : NDTV से Apple के सीईओ टिम कुक

भारत से लौटने के बाद स्टीव जॉब्स अमेरिका में बौद्ध बन गए. उन्होंने सिर मुंडवा लिया था और पारंपरिक भारतीय वस्त्र पहनने शुरू कर दिए थे. पूर्ण रूप से शाकाहारी बन चुके थे.

वीडियो: कुछ यूं रही एप्पल के संस्थापक स्टीव जॉब्स की जिंदगी

एप्पल कंपनी नाम भी भारत से जुड़ा: स्टीव जॉब्स की नंबर-1 कंपनी एप्पल को ये नाम भारत की वजह से ही मिला. भारत आकर स्टीव और उनके दोस्त ने 15 दिनों तक सबसे ज्यादा एप्पल ही खाए थे. बस वहीं से इन्हें अपनी कंपनी का नाम सूझा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement