NDTV Khabar

आर्मी चीफ ने दिया ये भरोसा और मोदी सरकार ने डोकलाम में चीन को कराया 'सरेंडर': सूत्र

सूत्रों की माने तो भारत की इस कूटनीतिक जीत में भारतीय सेना का बड़ा हाथ है.

2.4K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
आर्मी चीफ ने दिया ये भरोसा और मोदी सरकार ने डोकलाम में चीन को कराया 'सरेंडर': सूत्र

डोकलाम से चीनी सेना के पीछे हटने की घटना को भारत की कूटनीतिक जीत माना जा रहा है.

खास बातें

  1. सेना प्रमुख ने सरकार को दिया था भरोसा
  2. कहा था-डोकलाम में भारतीय सेना मजबूत स्थिति में
  3. कहा, भारतीय सेना चीन को भारी नुकसान पहुंचाने में सक्षम
नई दिल्ली:

चीन के साथ डोकलाम मुद्दा शांतिपूर्ण तरीके से सुलझ गया है, जिसे अंतरराष्ट्रीय मंच पर भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत कहा जा रहा है. सवाल उठ रहे हैं कि आखिर भारत ने ऐसा क्या किया कि चीन डोकलाम बॉर्डर से अपनी सेना पीछे हटाने को तैयार हो गया? सूत्रों की माने तो भारत की इस कूटनीतिक जीत में भारतीय सेना का बड़ा हाथ है. सेना ने नरेंद्र मोदी सरकार को भरोसा दिया था कि वह चीन को माकूल जवाब देने के लिए तैयार हैं. चीन की हरकतों के बाद भारतीय सेना ने डोकलाम बॉर्डर इलाके में अपनी स्थिति काफी मजबूत कर ली थी. सिक्किम के जिस बॉर्डर इलाके में विवाद था वहां चीन की तुलना में भारतीय सेना मूवमेंट करने में ज्यादा सक्षम थी.

ये भी पढ़ें: भविष्य में भारत-चीन के बीच बढ़ सकती हैं डोकलाम जैसी घटनाएं : सेना प्रमुख


सोमवार को चीन और भारत ने डोकलाम से अपनी सेना पीछे हटा लिए थे. डोकलाम भूटान का इलाका है, लेकिन चीन इसपर अपनी दावेदारी पेश करता है. इसी साल जून में भूटान ने कहा था कि चीन ने सिक्किम से सटे इलाके में बॉर्डर क्रॉस किया है, जिसका भारत ने समर्थन किया था. चीन इस इलाके में सड़क बना रहा था जिसे भारत ने पूर्वोत्तर राज्यों की सुरक्षा के लिए खतरा मानते हुए ऐतराज जताया था. 

ये भी पढ़ें:  भारत, चीन के जवानों को डोकलाम से हटाने की प्रक्रिया लगभग पूरी

भारत सरकार के सूत्रों का कहना है कि समुद्र तट से 10,000 फीट ऊंचे इस इलाके में भारतीय सशस्त्र बल बेहद सतर्क है और यहां कोई भी ढील देने के मूड में नहीं है. सूत्रों का यह भी कहना है कि सेना प्रमुख बिपिन रावत ने सरकार को आश्वस्त किसा था वह चीन को मुंहतोड़ जवाब देने लिए सक्षम हैं. उन्होंने सरकार को भरोसा दिया था कि डोकलाम में भारतीय सेना चीन को भारी नुकसान पहुंचाने की स्थिति में है. सेना की यही तैयारी भारत को चीन पर कूटनीतिक जीत दिलाने में काफी मददगार साबित हुई.

ये भी पढ़ें: डोकलाम पर भारत को झटका: चीन ने कहा हमारी नहीं, भारत की सेनाएं हटीं हैं

मालूम हो कि डोकलाम विवाद के बाद चीनी मीडिया के जरिए भारत पर हर रोज दबाव बनाया जा रहा था. वह सन 1962 की तरह शिकस्त देने की बातें कर रहा था. हालांकि भारत ने भी किसी भी मोर्चे पर अपने कदम पीछे नहीं हटाए. 

ये भी पढ़ें:  सड़क निर्माण पर भारत का तर्क हास्यास्पद व शातिराना है : चीन

डोकलाम क्यों है अहम?: डोकलाम भारत चीन और भूटान बार्डर के तिराहे पर स्थित है. भारत के नाथुला पास से मात्र 15 किलोमीटर की दूरी है. चुंबी घाटी में स्थित डोकलाम सामरिक दृष्टि से भारत और चीन के लिए काफी अहम है. साल 1988 और 1998 में चीन और भूटान के बीच समझौता हुआ था कि दोनों देश डोकलाम क्षेत्र में शांति बनाए रखने की दिशा में काम करेंगे.

टिप्पणियां

VIDEO:भारत और चीन के बीच रहा डोकलाम विवाद सुलझा, दोनों देश हटाएंगे सेना

युद्ध की स्थिति में डोकलाम में कब्जा होने का लाभ चीन को मिलेगा, जिसकी जद में सिलिगुडी से लेकर उसके आसपास का इलाका आ जाएगा.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement