NDTV Khabar

सेना नौकरी का जरिया नहीं, नौकरी लेनी है तो रेलवे में जाएं या बिजनेस खोलें: सेना प्रमुख बिपिन रावत

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने का कहना है कि सेना नौकरी का जरिया नहीं है. गुरुवार को उन्होंने पुणे में कहा कि भारतीय सेना को नौकरी प्रदाता के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
सेना नौकरी का जरिया नहीं, नौकरी लेनी है तो रेलवे में जाएं या बिजनेस खोलें: सेना प्रमुख बिपिन रावत

सेना प्रमुख जनरल बपिन रावत (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने का कहना है कि सेना नौकरी का जरिया नहीं है. गुरुवार को उन्होंने पुणे में कहा कि भारतीय सेना को नौकरी प्रदाता के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए. साथ ही जनरल रावत ने बीमारी या दिव्यांगता का बहाना कर ड्यूटी से बचने या लाभ प्राप्त करने वाले जवानों को चेतावनी भी दी. उन्होंने ड्यूटी के दौरान वास्तव में दिव्यांग होने वाले पूर्व सैनिकों और सेवारत जवानों को सभी मदद देने का भरोसा दिया. जनरल रावत ने कहा, ‘अक्सर देखा गया है कि लोग भारतीय सेना को एक रोजगार का जरिया मानते हैं. नौकरी हासिल करने का जरिया.'

'सर्जिकल स्ट्राइक का हुआ था बहुत प्रचार' वाले पूर्व सेना अधिकारी के बयान पर आर्मी चीफ का यह था जवाब

जनरल बिपिन रावत ने कहा कि ' कई लोग, नौजवान मेरे पास आते हैं और कहते हैं कि मुझे सेना में नौकरी चाहिए. मैं उन्हें कहता हूं कि भारतीय सेना नौकरी का साधन नहीं है. नौकरी लेनी है तो रेलवे में जाएं या अपना बिजनेस खोल लीजिए.'


सेना प्रमुख बिपिन रावत ने पाकिस्तान को चेताया- भारत के साथ मिलकर रहना है तो धर्मनिरपेक्ष देश बनना होगा

टिप्पणियां

उन्होंने कहा कि मैं आपके दिमाग से इस गलतफहमी को खत्म करना चाहता हूं. सेना का मतलब रोजगार नहीं होता. अगर आप सेना ज्वाइन करना चाहते हैं तो आपको शारीरिक और मानसिक कठोरता दिखानी होगी. आपके भीतर कठिनाइयों का सामना करने की क्षमता होनी चाहिए. 


VIDEO- 30 साल बाद भारतीय सेना को मिली नई तोप
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement