NDTV Khabar

दीवार के पार झांककर आतंकियों को खोजेंगे रडार, कश्मीर में किए गए तैनात

 दीवारों के भीतर या छतों में बनी जगहों में छुपे आतंकवादियों का पता लगाने के लक्ष्य से कश्मीर घाटी में उग्रवाद-विरोधी अभियानों के दौरान भारतीय सेना अब दीवारों के भीतर का हाल बताने में सक्षम राडार का प्रयोग करेगी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
दीवार के पार झांककर आतंकियों को खोजेंगे रडार, कश्मीर में किए गए तैनात

सेना रडार की मदद से मकान की छतों या दीवारों मे छिपे आतंकियों को खोज पाएगी (प्रतीकात्मक चित्र)

खास बातें

  1. रडार शरीर से निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक तरंगों पर काम करता है
  2. शरीर से निकलने वाली तरंगों में छोटे बदलावों को भी भांप लेता है
  3. DRDO भी इस रडार को स्वदेशी तकनीक से विकसित कर रही है
अनंतनाग:

दीवारों के भीतर या छतों में बनी जगहों में छुपे आतंकवादियों का पता लगाने के लक्ष्य से कश्मीर घाटी में उग्रवाद-विरोधी अभियानों के दौरान भारतीय सेना अब दीवारों के भीतर का हाल बताने में सक्षम रडार का प्रयोग करेगी.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सेना ने ऐसी कुछ राडार प्रणाली आयात भी कर ली है. यह तकनीक उग्रवाद-विरोधी अभियानों के दौरान ज्यादा सटीक और प्रभावी साबित होगी. यह सेना को सघन क्षेत्रों में मकानों के भीतर छुपे आतंकवादियों का ठिकाना बताएगी और इससे असैन्य नागरिकों को हताहत होने से भी बचाया जा सकेगा.

उग्रवाद-निरोधी अभियानों से जुड़े एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि एक बार से ज्यादा मौकों पर ऐसा हुआ है कि सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस के विशेष अभियान समूह को पुष्ट खुफिया जानकारी के बावजूद आतंकवादियों से निपटे बगैर वापस लौटना पड़ा है. बाद में स्थानीय मुखबिरों ने बताया कि जिस मकान पर छापा मारा गया, आतंकवादी उसी मकान में विशेष रूप से बनाए गए भूमिगत ठिकाने या छत पर बनाई गई फाल्स सीलिंग में छुपे हुए थे.

पिछले वर्ष आठ जुलाई को भी ऐसा ही हुआ था जब सुरक्षा बलों ने आतंकवादी संगठन हिज्बुल-मुजाहीद्दीन के पोस्टर-ब्वाय बुरहानी वानी को मार गिराया था. पहली बार सुरक्षा बलों ने उसे पकड़ना चाहा, लेकिन पुष्ट खुफिया जानकारी के बावजूद दक्षिण कश्मीर के कोकेरनाग स्थित गांव के मकान में वह आतंकवादी को खोज नहीं सके. सूचनाओं के अनुसार, अभियान का नेतृत्व कर रहे अधिकारी और पूरा दल दो बार मकान के भीतर घुसा लेकिन वे छत में बनी विशेष जगह में छुपे आतंकवादी को खोज नहीं सके. तीसरी बार तलाशी के दौरान आतंकवादियों ने जवानों पर गोलीबारी कर खुद ही अपना राज फाश कर दिया. उसके बाद ही सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में वानी सहित तीन लोग मारे गए और बाद में घाटी में महीनों तक अशांति के हालात रहे.


मानवीय और तकनीकी खुफिया सूचनाओं के बावजूद जब सुरक्षा बल किसी मकान में आतंकवादी को खोज नहीं पाते हैं तो उन्हें उग्र प्रतिरोधी भीड़ का सामना करना पड़ता है. सूत्रों ने कहा, इन हालात को देखने के बाद दीवारों के भीतर देखने में सक्षम रडार की जरूरत महसूस हुई जो उग्रवाद-विरोधी अभियानों में सुरक्षा बलों के लिए मददगार साबित होंगे, विशेष रूप से ज्यादा भीड़-भाड़ वाले इलाकों में.

यह रडार दीवारों या कंक्रीट से बने किसी अन्य ढांचे के पीछे छुपे व्यक्ति के शरीर से निकलने वाली शॉर्ट-इलेक्ट्रोमैग्नेटिक तरंगों के आधार पर काम करता है. मनुष्य के शरीर से निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक तरंगों में छोटे बदलावों को भी भांप लेता है, जैसे सांस लेने से होने वाला बदलाव भी इस पर दिखता है.  रडार पर उभरने वाले संकेत सेना को छुपे हुए आतंकवादियों की जगह और उनकी गतिविधियों का तुरंत पता बता देंगे. हालांकि सेना ने अभी कुछ ही रडार आयात किए हैं, लेकिन अधिकारियों को विश्वास है कि उपयोगिता का परीक्षण होने के बाद इनकी संख्या भी बढ़ेगी.

टिप्पणियां

दिलचस्प बात यह है कि रक्षा अनुसंधान और विकास संस्थान (डीआरडीओ) की शाखा इलेक्ट्रॉनिक रडार डेवेलपमेंट इस्टैबलिशमेंट (एलआरडीई) भी इस रडार को स्वदेशी तकनीक से विकसित करने का प्रयास कर रही है. हालांकि वह अभी भी परीक्षण स्तर में ही है.
 

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों (Election News in Hindi), LIVE अपडेट तथा इलेक्शन रिजल्ट (Election Results) के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement