NDTV Khabar

रक्षामंत्री बनने के बाद निर्मला सीतारमण का बड़ा फैसला, सैन्य पुलिस में शामिल होंगी 800 महिलाएं

लेफ्टिनेंट जनरल अश्विनी कुमार ने कहा कि सैन्य पुलिस कोर में महिलाओं को शामिल करने के फैसले से लैंगिक अपराधों के आरोपों की जांच करने में मदद मिलेगी.

7 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
रक्षामंत्री बनने के बाद निर्मला सीतारमण का बड़ा फैसला, सैन्य पुलिस में शामिल होंगी 800 महिलाएं

सैन्य पुलिस में शामिल होंगी 800 महिलाएं... (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारतीय सेना में लिंगभेद खत्म करने की दिशा में बड़ कदम उठाया गया है. दरअसल, सेना में महिलाओं को बराबरी का दर्जा देने के लिए रक्षा मंत्रालय ने 800 महिलाओं को सेना में भर्ती करने का फैसला लिया है.थलसेना के एडजुटेंट लेफ्टिनेंट जनरल अश्विनी कुमार ने पत्रकारों को इस संबंध में बताया कि इस योजना को थलसेना में लैंगिक समानता की दिशा में एक अहम कदम के तौर पर देखा जा रहा है. उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत सैन्य पुलिस में करीब 800 महिलाओं को शामिल किया जाएगा, जिनमें 52 महिला जवानों को हर साल शामिल करने की योजना है. यह घोषणा निर्मला सीतारमण के देश की पहली पूर्णकालिक महिला रक्षा मंत्री के रूप में कार्यभार संभालने के एक दिन बाद की गई है.
 

यह भी पढें: भारत ने पाकिस्तान को चेताया, कहा - हम जवाबी कार्रवाई का अपना अधिकार सुरक्षित रखते हैं


एक वरिष्ठ अधिकारी ने अपना नाम उजागर नहीं करने की शर्त पर बताया कि कुछ महिला कर्मियों को क्रमिक तौर पर कश्मीर की घाटी में तैनात किया जाएगा, ताकि वे विभिन्न तरह के काम कर सकें जिनमें महिलाओं की तलाशी शामिल है. लेफ्टिनेंट जनरल कुमार ने कहा कि सैन्य पुलिस कोर में महिलाओं को शामिल करने के फैसले से लैंगिक अपराधों के आरोपों की जांच करने में मदद मिलेगी.


यह भी पढें: सेना की प्राथमिकता में कोई बदलाव नहीं : आर्मी चीफ बिपिन रावत


इस घोषणा को महिलाओं के लिए लड़ाकू भूमिकाओं को एक तरह से खोलने के कदम के रूप में देखा जा रहा है. अभी महिलाओं को थलसेना की मेडिकल, कानूनी, शैक्षणिक, सिग्नल एवं इंजीनियरिंग जैसी चुनिंदा शाखाओं में काम करने की इजाजत दी जाती है.

VIDEO: नई रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के सामने कई चुनौतियां

सैन्य पुलिस की भूमिका में छावनियों और थलसेना की इकाइयों की पुलिसिंग, सैनिकों की ओर से नियम-कायदों के उल्लंघन को रोकना और शांति एवं युद्ध के दौरान व्यवस्था से जुड़े इंतजाम करने सहित कई अन्य जिम्मेदारियां शामिल हैं.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement