NDTV Khabar

नासिक मामले पर सेना ने बिठाई कोर्ट ऑफ इनक्वायरी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नासिक मामले पर सेना ने बिठाई कोर्ट ऑफ इनक्वायरी

थाने में तोड़-फोड़ की तस्वीर

नासिक: नासिक में थाने में पुलिस और सेना के जवानों की कथित हाथापाई के मामले में सेना ने कोर्ट ऑफ इनक्वायरी ऑर्डर की है। सेना के अनुसार लेफ्टिनेंट रामदास, नासिक का रहने वाला है। और देवलाली के आरटी स्कूल में है। वह छुट्टी पर नासिक गया था परिवार के किसी विवाद के सिलसिले में अपने रिश्तेदार के साथ उपनगर पुलिस स्टेशन पर गया था।

वहां पर मोटरसाइकिल पार्क करने को लेकर झड़प हुई और पुलिस ने सेना के अधिकारी और उसके रिश्तेदार को लॉक अप में बंद कर दिया और सेना के अधिकारी की पिटाई भी की। सुबह 5.30 बजे जब देवलाली से अन्य अधिकारीगण पहुंचे तब जाकर पुलिस ने दोनों को रिहा किया।

जब देवलाली में रामदास का मेडिकल चेकअप हुआ तो पता चला कि उसे ज्यादा चोट आई है और इस पर उसके 15-20 साथी पुलिस स्टेशन पहुंचे और हाथापाई हुई।

वहीं, पहले खबर यह थी कि एक सैन्य अधिकारी की गिरफ्तारी के विरोध में सेना के जवानों के एक समूह ने बुधवार को नासिक के एक थाने में कथित रूप से तोड़-फोड़ की और कई पुलिसकर्मियों पर हमला किया जिसमें तीन पुलिसकर्मी घायल हो गए।

उपनगर पुलिस स्टेशन में इंस्पेक्टर नम्रता देसाई ने दावा किया कि इस घटना के सिलसिले में सेना के छह जवानों को हिरासत में लिया गया है।

नम्रता देसाई ने बताया कि यहां के पास स्थित स्कूल ऑफ आर्टिलरी, देवलाली कैंप के एक सैन्य अधिकारी ने कल रात कथित तौर पर अपनी गाड़ी उपनगर पुलिस स्टेशन के पास खड़ी की थी। इसको लेकर उनके तथा पुलिसकर्मियों के बीच कहासुनी हुई।

उन्होंने कहा कि बाद में अधिकारी के खिलाफ पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज कराई गई और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। लेकिन मामले को सुलझा लिया गया और अधिकारी को छोड़ दिया गया।

नम्रता देसाई ने कहा कि दोपहर करीब 2 बजे 50-60 जवान सादे कपड़ों में पुलिस स्टेशन आए और उन्होंने तोड़-फोड की। उन्होंने पुलिस की बाहर खड़ी कुछ गाड़ियों और फर्नीचर को क्षतिग्रस्त कर दिया।

पुलिस अधिकारी ने आरोप लगाया कि सेना के जवानों ने उन्हें उनके कमरे में बंद कर दिया और कुछ पुलिसकर्मियों के साथ मारपीट की जिसमें तीन कांस्टेबल घायल हो गए। घायलों को नासिक राजकीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उन्होंने कहा कि नगर पुलिस आयुक्त कुलवंत कुमार सारांगल और अन्य अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे। घटना का पंचनामा तैयार किया जा रहा है। इस घटना के सिलसिले में सेना के छह जवानों को हिरासत में लिया गया है।

सेना की ओर से इस मामले में कहा गया है कि इस मामले में जांच की जा रही है और जो भी दोषी पाया जाएगा उस पर कार्रवाई की जाएगी।


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement