केरलः शशि थरूर के खिलाफ जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट, नॉवेल में हिंदू महिलाओं को बदनाम करने का आरोप

केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम की स्थानीय अदालत ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस सांसद शशि थरूर के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है.

केरलः शशि थरूर के खिलाफ जारी हुआ गिरफ्तारी वारंट, नॉवेल में हिंदू महिलाओं को बदनाम करने का आरोप

Shashi Tharoor पर किताब में हिंदू महिलाओं के खिलाफ लिखने और मानहानि करने का आरोप है

खास बातें

  • कोर्ट ने कांग्रेस सांसद शशि थरूर के खिलाफ जारी किया गिरफ्तारी वारंट
  • पुस्तक में महिला विरोधी लिखने का आरोप
  • तिरुवनंतपुरम की कोर्ट ने जारी किया वारंट
केरल:

केरल की राजधानी तिरुवनंतपुरम की स्थानीय अदालत ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस सांसद शशि थरूर के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है. शशि थरूर पर अपनी किताब में हिंदू महिलाओं को कथित रूप से बदनाम करने का आरोप है. उसी आरोप में उनकी गिरफ्तारी के लिए कोर्ट ने यह वारंट जारी किया है. शशि थरूर पर अपनी किताब में हिंदू महिलाओं के खिलाफ लिखने और मानहानि करने का आरोप है. कोर्ट ने शशि थरूर के खिलाफ नोटिस जारी किया था लेकिन वह खुद पेश नहीं हुए थे और न ही उनके वकील कोर्ट में हाजिर हुआ, जिसके बाद कोर्ट ने शशि थरूर के खिलाफ वारंट जारी किया है. कोर्ट का निर्णय आने के बाद शशि थरूर के दफ्तर की ओर से कहा गया कि हमें मीडिया से गिरफ्तारी वारंट जारी होने की जानकारी मिली है. हमें कुछ दिन पहले कोर्ट का समन मिला था. वारंट पर उपस्थित होने का समय तो अंकित था, लेकिन तारीख नहीं दी गई थी. शशि थरूर के दफ्तर के अनुसार हमारे वकील ने कोर्ट को यह जानकारी दी थी कि भेजे गए समन में तिथि स्पष्ठ नहीं है, 

शशि थरूर ने अमित शाह के बंटवारे वाले बयान पर कसा तंज, बोले- इतिहास की कक्षा में नहीं दिया ध्यान

इसके जवाब में कोर्ट ने कहा था कि नया समन जारी किया जाएगा लेकिन हमें नया समन नहीं मिला.

NRC आकर रहेगा, रोहिंग्या स्वीकार नहीं, एक भी घुसपैठिया बचेगा नहीं : अमित शाह

Newsbeep

आपको बता दें कि डॉ शशि थरूर को  हाल ही में साहित्य अकादमी ने अंग्रेजी के लिए पुरस्कार देने की घोषणा की थी. शशि थरूर ने 6 साल की उम्र से ही लिखना शुरू कर दिया था. अब तक उनकी दो दर्जन से ज्यादा किताबें छप चुकी हैं.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


Video: शशि थरूर बोले- CAB से होगा राष्ट्रीयता और लोकतांत्रिक मूल्यों का हनन