NDTV Khabar

18 दिन में बीजेपी ने खो दिए दो बड़े नेता : विपक्ष हमेशा याद करेगा सुषमा स्वराज और अरुण जेटली को

इन दोनों  नेताओं का रहना बीजेपी के लिए भी बड़ी चुनौती है क्योंकि दोनों ही बौद्धिक स्तर पर भी गंभीर योद्धा के तौर पर जाने जाते थे. बीजेपी की हिंदुत्व की राजनीति पर जब भी सवाल उठते तो सुषमा और जेटली बाखूबी इसका जवाब देते थे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
18 दिन में बीजेपी ने खो दिए दो बड़े नेता : विपक्ष हमेशा याद करेगा सुषमा स्वराज और अरुण जेटली को

अरुण जेटली और सुषमा स्वराज ने विपक्ष के नेता के तौर पर शानदार भूमिका निभाई

नई दिल्ली:

एक ही महीने के अंदर बीजेपी ने दो बड़े नेताओं को खो दिया है.  6 अगस्त की शाम पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन से बीजेपी अभी उबर भी नहीं आई थी कि 24 अगस्त को पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली  का निधन हो गया है. बीजेपी आज भले ही सत्ता के शिखर पहुंच गई हो लेकिन बीजेपी के इन दो नेताओं ने पार्टी को उस समय संभाला था जब 2009 में लोकसभा चुनाव में हार के बाद कार्यकर्ताओं में निराशा थी. लोकसभा में विपक्ष के  नेता के तौर पर सुषमा स्वराज और राज्यसभा में अरुण जेटली ने मोर्चा संभाला था. उसके बाद 2 जी से  लेकर कॉमनवेल्थ गेम्स, महंगाई जैसे मुद्दों पर दोनों नेताओं ने मनमोहन सिंह सरकार को चैन से नहीं बैठने नहीं दिया. विपक्ष में शानदार भूमिका निभाने वाले इन दो नेताओं ने तथ्यों और अपनी भाषण कला के दम पर संसद में जनता की आवाज बने. घपलों और घोटालों से घिरी यूपीए-2 की सरकार को इन नेताओं ने सड़क से लेकर संसद तक खूब छकाया. इस दौरान खास बात यह रही है कि दोनों नेताओं ने कभी कोई ऐसा बयान नहीं दिया जो विपक्षी दलों के लिए सिरदर्द बना हो. सुषमा स्वराज और अरुण जेटली दोनों ही पेशे से वकील थे और संसद में उनका सामना कपिल सिब्बल, अभिषेक मनु सिंघवी और राम जेठमलानी जैसे बड़े वकीलों से बहस होती थी. 

अरुण जेटली के निधन पर पीएम मोदी ने किया भावुक ट्वीट, कहा- मैंने अपना मूल्यवान दोस्त खो दिया


इन दोनों  नेताओं का रहना बीजेपी के लिए भी बड़ी चुनौती है क्योंकि दोनों ही बौद्धिक स्तर पर भी गंभीर योद्धा के तौर पर जाने जाते थे. बीजेपी की हिंदुत्व की राजनीति पर जब भी सवाल उठते तो सुषमा और जेटली बाखूबी इसका जवाब देते थे. खास बात यह है कि दोनों ही नेता आरएसएस की पृष्ठभूमि से नहीं आते थे. सुषमा स्वराज जहां बीजेपी में समाजवादी राजनीति से आई थीं तो जेटली की सोच उदारवादी और प्रगतिशील थी. 

विभाजन के बाद लाहौर से दिल्ली आए थे अरुण जेटली के पिता, जानिए खास बातें...

इन दोनों नेताओं की पार्टी बीजेपी पीएम मोदी की अगुवाई में भले ही सत्ता के शिखर पर हो, लेकिन उनके सामने हताश हो चुके विपक्ष की कुर्सियों को सुषमा और अरुण जेटली जैसे नेता जरूर याद आएंगे. 

टिप्पणियां

बीजेपी और अरुण जेटली के बीच कभी ना टूटने वाला रिश्ता था: पीएम मोदी​


 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement