NDTV Khabar

अरुण जेटली को मिला दूसरा सरकारी आवास, 22 अकबर रोड पर आवंटित हुआ 'टाइप 8' बंगला

अस्वस्थ होने के कारण मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में मंत्री नहीं बने बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली को दूसरा सरकारी बंगला मिला गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अरुण जेटली को मिला दूसरा सरकारी आवास, 22 अकबर रोड पर आवंटित हुआ 'टाइप 8' बंगला

अरुण जेटली (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. अरुण जेटली को मिला दूसरा सरकारी आवास
  2. 22 अकबर रोड पर आवंटित हुआ 'टाइप 8' बंगला
  3. अरुण जेटली फिलहाल कैलाश कॉलोनी में अपने निजी आवास पर हैं
नई दिल्ली:

अस्वस्थ होने के कारण मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में मंत्री नहीं बने बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली को दूसरा सरकारी बंगला मिला गया है.अरुण जेटली को 22 अकबर रोड पर बतौर सांसद बंगला आवंटित किया गया है. अरुण जेटली दो कृष्णा मेनन मार्ग पर स्थित अपना पुराना सरकारी घर छोड़ चुके हैं. 22 अकबर रोड स्थित यह बंगला भी 'टाइप आठ' बंगला है. अरुण जेटली फिलहाल कैलाश कॉलोनी में अपने निजी आवास पर हैं. अस्वस्थ होने के कारण जेटली ने मंत्रीपद स्वीकार करने से इंकार कर दिया था. अकबर रोड में फिलहाल पूर्व मंत्री चौधरी वीरेंद्र सिंह रहते हैं और वो जल्द ही यह बंगला खाली करेंगे. उन्हें 'टाइप सात' बंगला आवंटित किया जाएगा. 22 अकबर रोड में नीतीश कुमार, गुलाम नबी आजाद, अंबिका सोनी आदि रह चुके हैं.

बागी विधायकों से मिलने से रोका तो बोले कर्नाटक के मंत्री- राजनीति में हमारा जन्म साथ में हुआ और मरेंगे भी साथ में


संभावना है कि अरुण जेटली इसे ऑफिस के तौर पर इस्तेमाल करेंगे. बता दें कि टाइप आठ बंगले में आठ बेडरूम, चार सर्वेंट क्वार्टर दो गैराज और आगे पीछे लॉन होता है. अरुण जेटली का पुराना बंगला दो कृष्ण मेनन मार्ग अब आरके सिंह को आवंटित किया गया है. दो कृष्ण मेनन मार्ग को कई नेता शुभ नहीं मानते. यहां रहने वाले नवीन पटनायक और एसआर बाला सुब्रहमण्यम दिल्ली में नहीं टिक सके थे. मुलायम सिंह यादव भी इस घर में रहे थे. इससे पहले खबर आई थी कि अरुण जेटली जल्द ही अपने नए सरकारी आवास में जा सकते हैं.

SC पहुंचे कर्नाटक के बागी विधायक, कहा- प्रदेश में अजीब माहौल, आज या कल में हो सुनवाई, CJI बोले- देखते हैं

बता दें कि मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में नई मंत्रिपरिषद के शपथ ग्रहण समारोह से एक दिन पहले 29 मई को पूर्व वित्त मंत्री जेटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा था कि वह स्वास्थ्य कारणों से नई सरकार में मंत्री नहीं बनना चाहते. राज्यसभा सदस्य जेटली ने कहा था कि पिछले 18 महीनों से वह स्वास्थ्य संबंधी गंभीर चुनौतियों से जूझ रहे हैं और इसलिए भविष्य में किसी जिम्मेदारी से खुद को दूर रखना चाहेंगे तथा इलाज एवं स्वास्थ्य पर ध्यान केंद्रित करेंगे.    

टिप्पणियां

VIDEO: कर्नाटक मुद्दे पर विधानसभा स्पीकर के फैसले पर टिकी हैं सबकी निगाहें



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement