NDTV Khabar

जेटली ने कांग्रेस के दावे को किया खारिज, बोले- GST को चुनावों से जोड़ना ‘बचकानी राजनीति’

अरूण जेटली ने जीएसटी दरों में कमी के बारे में प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के दावे को खारिज करते हुए कहा कि उक्त दरों को युक्तिसंगत बनाए जाने का काम तीन चार महीने से चल रहा था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
जेटली ने कांग्रेस के दावे को किया खारिज, बोले- GST को चुनावों से जोड़ना ‘बचकानी राजनीति’

केंद्रीय वित्तमंत्री अरूण जेटली (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. जेटली ने कांग्रेस के दावे को किया खारिज
  2. कहा- GST को चुनावों से जोड़ना ‘बचकानी राजनीति’
  3. उन्होंने कहा कि इसे युक्तिसंगत बनाए जाने की प्रक्रिया 3-4 महीने की है
नई दिल्ली:

केंद्रीय वित्तमंत्री अरूण जेटली ने जीएसटी दरों में कमी के बारे में प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस के दावे को खारिज करते हुए कहा कि उक्त दरों को युक्तिसंगत बनाए जाने का काम तीन चार महीने से चल रहा था और इसे किसी चुनाव या किसी राजनीतिक मांग से जोड़ना ‘बचकानी राजनीति’ है. इसके साथ ही जेटली ने एकल कर दर की कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की मांग को खारिज करते हुए कहा कि दर को और युक्तिसंगत बनाए जाने की गुंजाइश है, लेकिन इसके बारे में कोई भी फैसला माल व सेवा कर (जीएसटी) से आने वाले राजस्व पर निर्भर करेगा.

सरकार ने इस नयी अप्रत्यक्ष कर प्रणाली का कार्यान्वयन जुलाई में किया था. जेटली ने कहा, ‘यह युक्तिसंगत बनाए जाने की प्रक्रिया 3-4 महीने की है. जीएसटी परिषद ने दर में कटौती का फैसला दर तय करने वाली फिटमेंट समिति क सिफारिश पर किया है.’ उन्होंने कहा कि जीएसटी परिषद के फैसले ‘पूरी सहमति से किए गए निर्णय’ हैं. इसे किसी चुनाव या राजनीतिक मांग से जोड़ना वास्तव में ‘बचकानी राजनीति’ है. उल्लेखनीय है कि जेटली की अध्यक्षता वाली जीएसटी परिषद ने पिछले सप्ताह 178 वस्तुओं पर कर की दर को 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत कर दिया. 

यह भी पढ़ें: सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को मजबूत बनाने के लिए और पूंजी डालेगी सरकार: जेटली


कुछ अन्य उत्पादों की दर को तो इससे भी कम दायरे में की गई. कांग्रेस ने गुजरात में विधानसभा चुनाव अभियान में जीएसटी प्रणाली में ऊंची कर दरों व अनुपालन संबंधी दिक्कतों को चुनावी मुद्दा बनाया है और उसने दावा किया कि सरकार ने उसके दबाव के चलते ही यह कदम उठाया. इसके साथ ही कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने 18 प्रतिशत तक की एकल दर वाले जीएसटी कर की मांग की है.

यह भी पढ़ें: व्यापारियों के लिए सबक - वोटर बने रहें कोई नहीं लूटेगा

टिप्पणियां

जेटली ने दरों को युक्तिसंगत बनाए जाने के कदम के बारे में कि मुख्य उद्देश्य यही है कि पारगमन सुगम हो न कि बाधाकारी. जेटली ने कहा, ‘जो लोग एकल जीएसटी दर की मांग कर रहे हैं उन्हें शुल्क दर ढांचे की जानकारी नहीं है. खाद्य उत्पादों पर कर शून्य होगा. आम जनता के उपभोग वाली वस्तुओं को कम पांच प्रतिशत के निम्नतम कर स्लैब में रखना होगा.’ 

VIDEO: सभी समस्या का हल नहीं है नोटबंदी : अरुण जेटली
किसी का नाम लिए बिना उन्होंने कहा कि जो एकल दर की बात कर रहे हैं उन्हें ‘जीएसटी की प्राथमिक  जानकारी’ भी नहीं है.



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement