NDTV Khabar

पूरी ताकत से भारत की सीमाओं की रक्षा करें जवान : जेटली

कश्मीर में सीमापार आतंकी गतिविधियों और डोकलाम में चीन के साथ गतिरोध के बीच रक्षा मंत्री अरुण जेटली का बयान सामने आया

3 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
पूरी ताकत से भारत की सीमाओं की रक्षा करें जवान : जेटली

रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने पाकिस्तान को कड़ा संदेश दिया...

नई दिल्ली: कश्मीर में सीमापार आतंकी गतिविधियों और डोकलाम में चीन के साथ गतिरोध की पृष्ठभूमि में रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने सोमवार को सशस्त्र बलों का आह्वान किया कि वे अपनी पूरी ताकत के साथ देश की सीमाओं की रक्षा करें. पाकिस्तान को कड़े संदेश में जेटली ने उसे भारत के खिलाफ आतंकवाद के घृणित कृत्यों को जारी नहीं रखने की चेतावनी दी और इस्लामाबाद को पिछले साल 29 सितंबर को भारतीय सेना द्वारा किये गये सर्जिकल स्ट्राइक की याद दिलाई.

उन्होंने कहा कि सर्जिकल हमलों में आतंकवादी और उन्हें मदद पहुंचा रहे लोग बड़ी संख्या में हताहत हुए थे. भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अनगिनत देशभक्तों के योगदान का उल्लेख करते हुए जेटली ने सीधे तौर पर किसी देश का नाम नहीं लिया, लेकिन कहा कि राष्ट्र अब अपनी सीमाओं के बचाव के लिए सशस्त्र बलों की ओर देखते हैं.

उन्होंने कहा, "देश अब अपनी सीमाओं की रक्षा के लिए आपकी ओर देखता है कि आप अपनी पूरी ताकत से और पूरी क्षमता से काम करें ताकि आज रात हमारे सभी लोग शांति से सोएं, ताकि हम सब कल एक नया सवेरा देखें और अपने देश को हमारी पूरी जनता के लिए शांति और समृद्धि की नयी ऊंचाइयों तक ले जाएं." इन बयानों को इस लिहाज से महत्वपूर्ण माना जा रहा है कि डोकलाम में भारत और चीन की सेनाओं के बीच पिछले आठ सप्ताह से गतिरोध की स्थिति है. रक्षा मंत्री 71वें स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या पर एक परंपरागत रेडियो प्रसारण में सशस्त्र बलों के जवानों को संबोधित कर रहे थे.

जेटली ने कहा कि ये आतंकी न केवल सशस्त्र बलों पर निशाना साध रहे थे बल्कि नागरिकों को भी निशाना बना रहे थे, ऐसे में भारत के सब्र का बांध टूट गया और भारतीय सेना ने प्रामाणिक जानकारी के आधार पर पिछले साल 29 सितंबर को ऐसे कई लांच पैडों पर सर्जिकल स्ट्राइक की ताकि आतंकियों की घुसपैठ को रोका जा सके.

उन्होंने कहा, "अभियानों में इस बात पर ध्यान दिया गया कि ये आतंकी विनाश करने और हमारे नागरिकों की जान खतरे में डालने की अपनी साजिश में कामयाब नहीं हों. इन आतंकवादी निरोधक अभियानों में आतंकवादी और उनका समर्थन करने वाले बड़े स्तर पर हताहत हुए." जेटली ने कहा, "हमारे कुछ जवान अपनी मातृभूमि की रक्षा करते हुए सर्वोच्च बलिदान दे रहे हैं. राष्ट्र उनके बलिदान के प्रति कृतज्ञ है." सशस्त्र बलों के बलिदान की सराहना करते हुए जेटली ने उन्हें भरोसा दिलाया कि सरकार उनके मनोबल को ऊंचा रखने के लिए हरसंभव प्रयत्न करेगी.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement