सीएम केजरीवाल ने बिल्डर से रिश्वत मांगने के आरोप में मंत्री आसीम अहमद खान को हटाया

सीएम केजरीवाल ने बिल्डर से रिश्वत मांगने के आरोप में मंत्री आसीम अहमद खान को हटाया

दिल्ली सरकार में मंत्री रहे आसीम अहमद खान की फाइल फोटो

नई दिल्ली:

मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने एक मंत्री आसिम अहमद खान पर भ्रष्‍टाचार के आरोप लगने के बाद उन्हें मंत्री पद से हटा दिया है। आसिम पर एक बिल्‍डर से पैसे मांगने का आरोप है।

सीएम केजरीवाल ने कहा कि अगर कोई भ्रष्ट है तो मैं उन्हें कतई नहीं बख्शूंगा, चाहे वह मेरा बेटा या मनीष सिसोदिया या कोई और भी क्यों ना हो। इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि हम यह केस जांच के लिए सीबीआई को भेज रहे हैं और उन्‍हें पार्टी से निकालने पर भी फैसला किया जाएगा। साथ ही उन्‍होंने बीजेपी से मांग की कि वह भ्रष्‍टाचार के आरोप में फंसे सीएम श्‍ािवराज सिंह को भी पद से हटाए।

आसीम अहमद खान दिल्ली में खाद्य एवं पर्यावरण मंत्री थे और अब इमरान हुसैन उनकी जगह लेंगे। खान पर 'बिल्डरों से साठगांठ' के आरोप लगे थे।

सीएम केजरीवाल ने एक ऑडियो रिकॉर्डिंग भी सुनाई, जिसे उन्होंने खान और बिल्डर के बीच हुई करीब एक घंटे की बातचीत का हिस्सा बताया। इसके साथ ही उन्होंने कहा, लोग हमें इमानदार नेता मानते हैं। हम यहां सत्ता के लिए नहीं हैं। इसलिए हम अपने मंत्रियों, विधायकों और अधिकारियों को भी नहीं बख्शेंगे।

केजरीवाल ने कहा कि पुरानी दिल्ली में बल्लीमारन से पहली बार विधायक बने इमरान हुसैन को कैबिनेट में शामिल किया जाएगा। पिछले आठ महीने में खान दूसरे मंत्री हैं जिन्हें पद से हटना पड़ा है। इसके पहले तत्कालीन कानून मंत्री जितेंद्र सिंह तोमर को फर्जी डिग्री विवाद को लेकर इस्तीफा देना पड़ा था।

इस बीच खान ने इसे अपने खिलाफ विपक्ष द्वारा ‘‘बड़ी साजिश’’ बताया और कहा कि वह कल इसका खुलासा करेंगे।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उन्होंने कहा, ‘‘यह विपक्ष द्वारा बड़ी साजिश है। मैं कल इसका खुलासा करूंगा। पार्टी ने मुझसे जांच लंबित रहने तक इस्तीफा देने को कहा है। इसलिए मैंने इस्तीफा दे दिया। पार्टी की छवि साफ रहनी चाहिए।’’

इस बीच बल्लीमारन के विधायक इमरान हुसैन को खान के स्थान पर कैबिनेट में शामिल किया जाएगा। जामिया मिलिया विश्वविद्यालय से बैचलर आफ बिजनेस स्टडीज की डिग्री हासिल करने वाले हुसैन ने भाजपा के श्याम लाल मोरवाल को 33, 877 मतों से पराजित किया था।