NDTV Khabar

'आम' को छोड़ें और 'खास' की तरह करें व्‍यवहार, अरविंद केजरीवाल ने अपने विधायकों को दिया 'मंत्र'

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'आम' को छोड़ें और 'खास' की तरह करें व्‍यवहार, अरविंद केजरीवाल ने अपने विधायकों को दिया 'मंत्र'

केजरीवाल ने अपने विधायकों से आम आदमी वाला रवैया छोड़कर विधायकों जैसा बर्ताव करने को कहा है. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. एमसीडी चुनाव के नतीजों के बाद खुद को संभालने की जुगत में लगी है आप.
  2. छवि बदलने की इस कवायद में उनके पहनावे का तरीका शामिल नहीं है.
  3. आप के विधायकों का केजरीवाल के साथ हुआ फीडबैक सेशन.
नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने अपने विधायकों से आम आदमी वाला रवैया छोड़कर विधायकों जैसा बर्ताव करने को कहा है. केजरीवाल को अपने विधायकों से फीडबैक मिला था कि अपने मुख्‍य वोटरों से जुड़ने के लिए जिस राजनीतिक पहचान की पार्टी वकालत करती रही है, शायद वह उसके खिलाफ ही जा रही है.

आम आदमी पार्टी, जिसका मतलब है कि आम लोगों की पार्टी, दिल्‍ली नगर निगम चुनाव के नतीजों के बाद खुद को संभालने की जुगत में लगी है. अपनी पार्टी के 64 विधायकों के साथ अलग-अलग मुलाकात में उन्‍हें पता चला कि विधायकों द्वारा की गई कड़ी मेहनत और तमाम कामों के बावजूद उसे स्‍वीकार नहीं किया गया क्‍योंकि वो कुछ ज्‍यादा ही 'आम' हैं.

सूत्रों के अनुसार छवि बदलने की इस कवायद में उनके पहनावे का तरीका शामिल नहीं है और वह नहीं बदलेगा. आप के नेता रोजमर्रा की जिंदगी में इस्‍तेमाल होने वाले कपड़े ही पहनना जारी रखेंगे जिसका कि मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल समर्थन करते हैं और अन्‍य राजनेताओं की तरह सफेद कुर्ता पायजामा पहनकर अलग नहीं दिखेंगे. लेकिन अब वो पहचाने जाना चाहते हैं.

जैसे कि अन्‍य पार्टियों के नेताओं की तरह आप नेता जिनमें अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया भी शामिल हैं, बड़े दल बल के साथ सफर नहीं करते. और ज्‍यादातर आप नेता अपने घरों की छोटी सी जगह से ही अपना दफ्तर चलाते हैं, न कि ऐसी किसी प्रमुख जगह पर बड़े बड़े पोस्‍टर और पार्टी के झंडे लगाकर जहां लोग लाइनों में खड़े हों. अब फैसला यह हुआ है कि इस स्थिति को बदलना है.

टिप्पणियां
केजरीवाल के साथ हुए फीडबैक सेशन में यह भी तय हुआ कि अब ज्‍यादा दिखने और अपने काम का क्रेडिट लिए जाने की भी जरूरत है. आप के एक विधायक ने बताया, 'हम समस्‍याओं को सुलझाने में इतने व्‍यस्‍त रहते हैं कि उसका प्रचार नहीं कर पाते. काम होते रहते हैं लेकिन लोग यह मान ही नहीं पाते कि यह आप द्वारा किया गया है. हमें उस पर जोर देने की जरूरत है.'

एक अन्य विधायक ने सुझाव दिया कि आप को हर कॉलोनी में दोस्त बनाने की जरूरत है जो उनके द्वारा किए गए काम के बारे में बात करे. उन्होंने बताया कि लोगों को यह ध्यान देने की जरूरत है कि सड़क आप के विधायक द्वारा मरम्मत की गई थी. बता दें, बीजेपी पिछले दस सालों से नगर निगम निगम या एमसीडी पर हावी है और पिछले हफ्ते फिर से एक बड़े अंतर से बीजेपी ने एमसीडी चुनाव में जीत दर्ज की. इस बार के चुनाव में बीजेपी ने तीन निगमों में 272 वार्डों में से 181 वार्डों पर अपना परचम लहराया. 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement