कोरोना से जंग : दफनाने को लेकर ओवैसी ने की मुस्लिमों से अपील- किसी को खोना मुश्किल घड़ी होती है, लेकिन याद रहे...

AIMIM पार्टी के मुखिया और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने कोरोना संक्रमित मरीजों के अंतिम संस्कार या दफनाने को लेकर बनाए गए दिशा-निर्देशों को लेकर तेलंगाना सरकार का शुक्रिया अदा किया है.

कोरोना से जंग : दफनाने को लेकर ओवैसी ने की मुस्लिमों से अपील- किसी को खोना मुश्किल घड़ी होती है, लेकिन याद रहे...

असदुद्दीन ओवैसी AIMIM पार्टी के प्रमुख हैं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • असदुद्दीन ओवैसी की मुस्लिमों से अपील
  • सरकार के दिशा-निर्देशों का करें पालन
  • 'आसपास के लोगों को जोखिम में न डालें'
नई दिल्ली:

AIMIM पार्टी के मुखिया और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने कोरोना संक्रमित मरीजों के अंतिम संस्कार या दफनाने को लेकर बनाए गए दिशा-निर्देशों को लेकर तेलंगाना सरकार का शुक्रिया अदा किया है. साथ ही उन्होंने देशभर के मुस्लिमों के सामने 'सोशल डिस्टेंसिंग' को लेकर भी अपनी बात रखी. असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट किया, 'दफनाए जाने के दौरान किसी भी कीमत पर पांच से ज्यादा लोग नहीं होने चाहिए. किसी को खोना हमारे लिए बेहद मुश्किल होता है लेकिन ये भी याद रखना है कि आप अपने आसपास के लोगों के लिए भी बड़ी जिम्मेदारी रखते हैं. उन्हें जोखिम में न डालें.'

एक अन्य ट्वीट में ओवैसी ने तेलंगाना सरकार का शुक्रिया अदा करते हुए लिखा, 'इन प्रमुख बिंदुओं पर ध्यान देने के लिए राज्य सरकार का शुक्रिया अदा करता हूं. यह सुनिश्चित करना सभी मुसलमानों पर निर्भर करता है कि नमाज-ए-जनाजा का मतलब भीड़ नहीं है. आदर्श रूप से 2 लोगों को ततफीन में भाग लेना चाहिए और कब्रिस्तान में ही नमाज-ए-जनाजा किया जाना चाहिए.'

असदुद्दीन ओवैसी ने तेलंगाना सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन को शेयर करते हुए लिखा, 'तेलंगाना में कोरोना संक्रमित मृतकों के अंतिम संस्कार और दफनाने के लिए यह दिशा-निर्देश हैं. महत्वपूर्ण सुझावों के लिए मौलाना खालिद सैफुल्ला रहमानी, मुफ्ती खलील अहमद, हामिद मोहम्मद खान, मौलाना हाफिज पीर शब्बीर और मुफ्ती घियास का शुक्रिया अदा करता हूं.'

बताते चलें कि लॉकडाउन के दौरान बिहार के श्रमिकों के पलायन को लेकर हाल ही में असदुद्दीन ओवैसी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पर निशाना साधा था. उन्होंने कहा, 'AIMIM पार्टी के कार्यकर्ता हमारे भाइयों जो बिहार के किशनगंज के रहने वाले हैं और वर्तमान में हफीजपेट में रहते हैं, को पका हुआ खाना बांट रहे हैं. लॉकडाउन की वजह से वह हैदराबाद में फंस गए हैं. नीतीश कुमार, यह लोग आपके राज्य से हैं, आपने उन्हें क्यों छोड़ दिया.'

VIDEO: रवीश कुमार का प्राइम टाइम : कितने तैयार हैं हम और हमारे वैज्ञानिक?

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com