किसानों की खुदकुशी पर बोले ओवैसी - 9 बजे वाले राष्ट्रवादी मजबूर गरीबों पर नहीं करेंगे शो

बुधवार को ट्विटर पर एक ट्वीट कर ओवैसी ने कहा कि देश में किसान हजारों की संख्या में खुदकुशी कर रहे हैं, लेकिन उनकी मौत पर न टीवी पर बहस होगी न ही सरकार से सवाल पूछे जाएंगे.

किसानों की खुदकुशी पर बोले ओवैसी - 9 बजे वाले राष्ट्रवादी मजबूर गरीबों पर नहीं करेंगे शो

किसानों और मजदूरों की खुदकुशी की खबर बोले ओवैसी. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • किसानों- मजदूरों की खुदकुशी की खबर पर बोले ओवैसी
  • कहा- टीवी पर नहीं होगी बहस
  • 'एक एक्टर की मौत हजारों किसानों की मौतों से ज्यादा अहम'
नई दिल्ली:

लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने किसानों और मजदूरों की खुदकुशी (Farmers and Daily Wagers Suicide) के आंकड़ों की एक खबर शेयर कर सरकार और मीडिया पर हमला बोला है. बुधवार को ट्विटर पर एक ट्वीट कर ओवैसी ने कहा कि देश में किसान हजारों की संख्या में खुदकुशी कर रहे हैं, लेकिन उनकी मौत पर न टीवी पर बहस होगी न ही सरकार से सवाल पूछे जाएंगे. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, 'रात 9 बजे वाले राष्ट्रवादी भारत के सबसे गरीब लोगों की खुदकुशी को मजबूर होने पर शो नहीं करेंगे. इसमें कोई जांच नहीं होगी. पीड़ितों के परिवारों से कोई इंटरव्यू नहीं लिया जाएगा. कोई ड्रामा नहीं होगा. वो पीएमओ से किसी भी कीमत पर कोई सवाल नहीं पूछेंगे. लाखों भारतीय दर्द में हैं और यह उनका हक है कि उनकी आवाज सुनी जाए.'

datf3t0o

उन्होंने अपने एक दूसरे ट्वीट में लिखा, 'लेकिन इसकी जगह आज रात PUBG बैन पर चर्चा होगी. ताकि हमें हमारे साथी नागरिकों की दयनीय हालत से हमारा ध्यान भटकाया जा सके. मीडिया की नजर एक एक्टर की दुर्भाग्यपूर्ण मौत हजारों किसानों और मजदूरों की मौत से ज्यादा कीमत रखती है.'

बता दें कि कोरोनावायरस ने देश की सुस्त पड़ी अर्थव्यवस्था की हालत और पतली कर दी है. देश में महीनों चले लॉकडाउन ने लाखों लोगों का रोजगार छीन लिया है, वहीं देश का हर सेक्टर रेंग रहा है. देश की जीडीपी में भी पिछले 40 सालों की अब तक की सबसे बड़ी गिरावट आई है. सोमवार को जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक, देश की जीडीपी में करीब 24 फीसदी की गिरावट हुई है. वहीं बुधवार को खबर आई कि केंद्र सरकार ने एक बार फिर पॉपुलर वीडियो गेम PUBG सहित 118 चीनी मोबाइल ऐप्स को बैन कर दिया है.

Video: कोरोना काल में मंदी की मार, ट्रांसपोर्ट सेक्टर में रोजी-रोटी का संकट

Newsbeep

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)