NDTV Khabar

महाराष्ट्र में सरकार गठन की कवायद के बीच सामने आया ओवैसी का पक्ष, कहा- हमारी पार्टी के 2 विधायक और...

ओवैसी ने ट्वीट कर साफ किया है कि AIMIM के दो विधायक हैं जोकि शिवसेना और कांग्रेस गठजोड़ को समर्थन नहीं करेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
महाराष्ट्र में सरकार गठन की कवायद के बीच सामने आया ओवैसी का पक्ष, कहा- हमारी पार्टी के 2 विधायक और...

महाराष्ट्र में सियासी हलचल के बीच AIMIM प्रमुख ओवैसी ने रखा अपना पक्ष

नई दिल्ली:

महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए गहमा गहमी वक्त के साथ तेज होती जा रही है. सोमवार शाम तक संभावनों के बाद यह संकेत दे रहे थे कि महाराष्ट्र की सत्ता पर शिवसेना काबिज होगी लेकिन 7.30 बजते ही इस संभावनाओं पर राज्यपाल ने विराम लगा दिया. अब सरकार बनाने के लिए तीसरी बड़ी पार्टी NCP को न्योता भेजा गया है, जिन्होंने साफ किया है कि वह मंगलवार को कांग्रेस के साथ चर्चा के बीच कोई फैसला लेंगे. इन सारी सियासी उठापटक के बीच ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन के प्रमुख असदुद्दीन ने अपना रुख साफ कर दिया है. पार्टी प्रमुख ओवैसी ने ट्वीट कर साफ किया है कि AIMIM के दो विधायक हैं जोकि शिवसेना और कांग्रेस गठजोड़ को समर्थन नहीं करेंगे. उन्होंने लिखा कि पार्टी ने इस बात की जानकारी महाराष्ट्र के राज्यपाल के दफ्तर को भी दे दी है.

महाराष्ट्र में सत्ता की चाभी सोनिया गांधी के पास, एनसीपी का रुख कांग्रेस पर निर्भर


असदुद्दीन ओवैसी ने य़ह भी लिखा कि मुझे लगता है कि मेरे सिर पर सजाए गए 'वोट कटवा' के ताज को अब कांग्रेस के सिर पर सजा देना चाहिए. ओवैसी के अनुसार जिन लोगों को मैं, मेरी पार्टी और मेरे वोटर्स... तथाकथित सेक्यूलर पार्टियों के हार का कारण लगते थे. उम्मीद है उन्हें अब शांत होने की वजह मिल जाएगी. 

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह बोले- आज बाला साहेब ठाकरे और शिवसैनिक कराह रहे होंगे क्योंकि...

महाराष्ट्र: शिवसेना को समर्थन करना है या नहीं, इस पर कांग्रेस ने कुछ यूं दिया जवाब

टिप्पणियां

आपको बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव मे बीजेपी को 105, शिवसेना को 56, एनसीपी को 54 और कांग्रेस को 44 सीटें मिली हैं. बीजेपी और शिवसेना ने मिलकर बहुमत का 145 का आंकड़ा पार कर लिया था. लेकिन शिवसेना ने 50-50 फॉर्मूले की मांग रख दी जिसके मुताबिक ढाई-ढाई साल सरकार चलाने का मॉडल था. शिवसेना का कहना है कि बीजेपी के साथ समझौता इसी फॉर्मूले पर हुआ था लेकिन बीजेपी का दावा है कि ऐसा कोई समझौता नहीं हुआ. इसी लेकर मतभेद इतना बढ़ा कि दोनों पार्टियों की 30 साल पुरानी दोस्ती टूट गई.

Video: राज्यपाल ने एनसीपी को सरकार बनाने का न्योता दिया



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement