NDTV Khabar

पुलिसवालों ने तीन बहनों को कपड़े उतारकर थाने में पीटा, एक का हुआ गर्भपात, दो पुलिसकर्मी सस्पेंड

तीनों बहनों में से एक के शिकायत दर्ज कराने के बाद विभाग ने यह कदम उठाया है. घटना के बारे में शिकायत कराने वाली बहन ने बताया कि वह गर्भवती थी और कथित तौर पर पुलिस द्वारा प्रताड़ित किए जाने के कारण उसका गर्भपात हो गया था.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पुलिसवालों ने तीन बहनों को कपड़े उतारकर थाने में पीटा, एक का हुआ गर्भपात, दो पुलिसकर्मी सस्पेंड

असम में दो पुलिसकर्मी निलंबित

खास बातें

  1. थाने में तीनों बहनों को प्रताड़ित करने का आरोप
  2. पुलिस की मारपीट के चलते एक बहन को हो गया गर्भपात
  3. एक महिला ने बहनों पर अपने का अपहरण करने का लगाया था आरोप
गुवाहटी:

असम पुलिस ने दरंग जिले में तीन बहनों को हिरासत में नग्न करने और उन्हें प्रताड़ित करने के आरोपों के चलते दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया है. साथ ही उनके खिलाफ जांच शुरू की गई है. तीनों बहनों में से एक के शिकायत दर्ज कराने के बाद विभाग ने यह कदम उठाया है. घटना के बारे में शिकायत कराने वाली बहन ने बताया कि वह गर्भवती थी और कथित तौर पर पुलिस द्वारा प्रताड़ित किए जाने के कारण उसका गर्भपात हो गया था. पुलिस सूत्रों के अनुसार, दरंग जिले के बुरहा पुलिस चौकी के प्रभारी अधिकारी और एक महिला पुलिस कांस्टेबल को निलंबित कर दिया गया है. यह घटना तब सामने आई जब तीनों बहनों ने एक स्थानीय असमिया समाचार चैनल को अपनी घटना बताई. 

यूपी: जोड़े ने थाने में खुद को लगाई आग, दबंगों की मारपीट और बदतमीजी से थे परेशान


पुलिस सूत्रों का कहना है कि शिकायत दर्ज कराने वाली बहन को उसके पति और दो बहनों के साथ 9 सितंबर को गुवाहाटी के सतगांव इलाके में उनके घर से उठाया गया था, जहां से पुलिस उन्हें दरंग के बुरहा पुलिस चौकी में ले गई थी. सूत्रों ने बताया कि उन लोगों को एक महिला की शिकायत पर उठाया गया था, जिसने शिकायत दर्ज कराने वाले ने आरोप लगाया था कि उसने उसके भाई का अपहरण कर लिया है, जिसने उसके साथ इस महीने की शुरुआत में शादी कर ली थी. सूत्रों ने बताया कि अपहरण का आरोप लगाने वाली महिला का कहना है कि उसके भाई के साथ रहने वाली महिला दूसरे धर्म की है. 

दार्जीलिंग की रहने वाली महिला और उसके दोस्तों के साथ मारपीट, दो गिरफ्तार 

टिप्पणियां

वहीं पुलिसकर्मियों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने वाली 28 वर्षीय बहन ने दरंग जिले के पुलिस अधीक्षक अमृत भुइयां से अपनी शिकायत में कहा कि 10 सितंबर को पुलिस चौकी प्रभारी महेंद्र सरमा और एक महिला कांस्टेबल बिनीता बोरा द्वारा उसे, उसके पति और दो बहनों को थाने में नग्न किया गया और बुरी तरह पीटा गया. उसने आरोप लगाया कि प्रभारी अधिकारी ने उन्हें बंदूक की नोक पर प्रताड़ित किया और गर्भवती होने के बावजूद उसे पीटा गया. हालांकि पुलिस सूत्रों ने दावा किया कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी कि तीनों महिलाओं में से कोई गर्भवती है. इसके लिए वह जांच रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं. 

VIDEO: स्वामी चिन्मयानंद पर कार्रवाई क्यों नहीं?



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement