Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

असम: 8 लाख से ज्यादा लोग बाढ़ से प्रभावित, खतरे के निशान से ऊपर बह रही नदियां, 6 लोगों की मौत

असम में आई बाढ़ की वजह से 8 लाख से ज्यादा लोगों की जिंदगी पर असर पड़ा है. यहां के 27 में से 21 जिलों में बाढ़ की वजह से हालात सामान्य नहीं हैं.

असम: 8 लाख से ज्यादा लोग बाढ़ से प्रभावित, खतरे के निशान से ऊपर बह रही नदियां, 6 लोगों की मौत

असम में 8 लाख से ज्यादा लोग बाढ़ से प्रभावित

खास बातें

  • असम में आई बाढ़ की वजह से 8 लाख से ज्यादा लोगों की जिंदगी पर असर
  • 27 में से 21 जिलों में बाढ़ की वजह से हालात सामान्य नहीं
  • नदियां खतरे के निशान के ऊपर बह रहीं
असम:

बाढ़ की वजह से 8 लाख से ज्यादा लोगों की जिंदगी पर असर पड़ा है. यहां के 27 में से 21 जिलों में बाढ़ की वजह से हालात सामान्य नहीं हैं. अधिकारियों के मुताबिक यहां नदियां खतरे के निशान के ऊपर बह रही हैं. अब तक बाढ़ की वजह से 6 लोगों की जान जा चुकी है. मौसम विभाग द्वारा बारिश के अनुमान के बाद फेरी सेवाओं को शुक्रवार को बंद कर दिया गया है. अधिकारियों ने बताया, '27 हजार हेक्टेयर किसानों की भूमि बाढ़ की चपेट में है और 7 हजार से ज्यादा लोगों को 68 राहत कैंपों में शिफ्ट किया गया है.' 

देश के कई हिस्सों में भारी बारिश से भीषण बाढ़, असम में 4 लाख लोग प्रभावित

ऊपरी असम के धीमाजी और लखीमपुर और निचले असम के बोंगाईगांव और बारपेटा में हालाता ज्यादा खराब हैं. अधिकारियों के मुताबिक ऊपरी असम में आई बाढ़ का असर निचले स्तर पर भी हो रहा है. भूटान ने भी कई क्षेत्रों में बाढ़ की चेतावनी जारी की है. 

असम के स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने कहा, '17 जिलों में बारापेटा में हालात ज्यादा खराब हैं और यहां से 85 हजार से ज्यादा लोगों को शेल्टर में भेजा गया है.' 

बाढ़ का पानी ऊपरी असम के काजीरंगा नेशनल पार्क में भी घुस गया. जिससे जानवरों को भी सुरक्षित जगह भेजने की कोशिश की जा रही है. इसके अलावा नेशनल हाईवे पर वाहनों के आने-जाने पर रोक लगाई गई है. 

...तो क्या पश्चिम बंगाल में भी लागू होगा एनआरसी, केंद्र सरकार ने दिया कुछ ऐसा जवाब

सीएम सर्बानंद सोनोवाल ने स्थिति का जायजा लेने के लिए क्षेत्रों के डिप्टी कमिश्नर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की. उन्होंने डिप्टी कमिश्नर्स को निर्देश दिए कि इमरजेंसी में आने वाली कॉलों का फौरन जवाब दिया जाए. 

बता दें कि लगातार हो रही भारी बारिश की वजह से अरुणाचल प्रदेश( Arunachal Pradesh) के तवांग में भी जमीन धंसने से 2 बच्चों की मौत हो गई थी और कई इलाकों का आपस में संपर्क कट गया था. कई गाड़ियां मिट्टी के दलदल में फंस गई थी. राज्य सरकार अलर्ट पर है क्योंकि भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है. सिक्किम और कलिम्पोंग को सिलीगुड़ी से जोड़ने वाला हाइवे लगातार हो रही बारिश और भू-स्खलन की वजह से रोक दिया गया है.