एस्ट्राजेनेका ने कहा भारत में मंजूरी मिलने से दुनिया भर में कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति में मिलेगी मदद

दवा कंपनी एस्ट्राजेनेका ने अपने कोविड-19 टीके को भारत में मंजूरी मिलने को बुधवार को काफी महत्वपूर्ण करार दिया है. कंपनी ने बुधववार को कहा कि इससे दुनिया भर के देशों में टीके की आपूर्ति करने में मदद मिलेगी.

एस्ट्राजेनेका ने कहा भारत में मंजूरी मिलने से दुनिया भर में कोरोना वैक्सीन की आपूर्ति में मिलेगी मदद

एस्ट्राजेनेका ने अपने कोविड-19 टीके को भारत में मंजूरी मिलने को काफी महत्वपूर्ण बताया है

नई दिल्ली:

दवा कंपनी एस्ट्राजेनेका ने अपने कोविड-19 टीके को भारत में मंजूरी मिलने को बुधवार को काफी महत्वपूर्ण करार दिया है. कंपनी ने बुधववार को कहा कि इससे दुनिया भर के देशों में टीके की आपूर्ति करने में मदद मिलेगी.कंपनी ने भारत सरकार समेत कई कम व मध्यम आय वाले देशों को टीके की आपूर्ति करने के लिये दुनिया की सबसे बड़ी टीका निर्माता कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के साथ गठजोड़ किया है.कंपनी ने कहा कि उसके टीके को छह देशों ‘भारत, अर्जेंटीना, डोमिनिकन रिपब्लिक, अल सल्वाडोर, मैक्सिको और मोरक्को' में आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिल चुकी है.



कंपनी ने कहा कि उसका टीका नैदानिक परीक्षण में प्रभावी व सुरक्षित पाया गया है. टीके की दूसरी खुराक के 14 दिन से अधिक समय तक किसी को भी अस्पताल में भर्ती नहीं होना पड़ा है और न ही किसी को गंभीर नतीजों से जूझना पड़ा है.
एस्ट्राजेनेका ने कहा कि वह 2021 में वैश्विक स्तर पर तीन अरब खुराक की विनिर्माण क्षमता हासिल करने के लिये भागीदारों के साथ मिलकर काम कर रही है.एस्ट्राजेनेका के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) पास्कल सोरियट ने कहा, ‘‘ये आपातकालीन उपयोग की मंजूरियां जल्द ही कई लाख लोगों तक टीके की पहुंच सुनिश्चित करेंगी. ये दुनिया भर में टीके की एक समान उपलब्धता सुनिश्चित करने की हमारी प्रतिबद्धता के भी सबूत हैं.''

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com



उन्होंने कहा, कंपनी को उम्मीद है कि यह प्रभावी, अच्छी तरह से काम करने वाला और इस्तेमाल में सरल टीका अब घातक वायरस पर वास्तविक प्रभाव डालना शुरू कर देगा.सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा कि भारत में आपातकालीन मंजूरी एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है. उन्होंने कहा, ‘‘विनियामक का यह निर्णय दुनिया भर के लाखों लोगों के लिये एक सुरक्षित, प्रतिरक्षात्मक और सस्ती वैक्सीन की समान पहुंच सुनिश्चित करने की दिशा में स्वागतयोग्य व प्रोत्साहित करने वाला कदम है.''



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)