JLN स्टेडियम के हॉस्टल में एथलीट ने किया सुसाइड, हाल ही में हुआ था आर्मी में सलेक्शन

हॉस्टल के कमरे में पलेंदर के दोस्तों ने उसे पंखे से लटका हुआ देखा. जिसके बाद उन्होंने रस्सी काटकर पलेंदर को नीचे उतारा और उसे तुरंत सफदरजंग अस्पताल पहुंचाया.

JLN स्टेडियम के हॉस्टल में एथलीट ने किया सुसाइड, हाल ही में हुआ था आर्मी में सलेक्शन

पलेंदर का हाल ही में स्पोर्ट्स कोटे से सेना में चयन हुआ था. वह जल्द ही सेना की ट्रेनिंग पर जाने वाले थे.

खास बातें

  • पुलिस को मौके से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला.
  • पलेंदर जल्द ही सेना की ट्रेनिंग पर जाने वाले थे.
  • पलेंदर साई हॉस्टल में रहकर 100 और 200 मीटर रेस की तैयारी कर रहे थे.
नई दिल्ली:

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में जिंदगी से जंग लड़ रहे 18 साल के एथलीट पलेंदर चौधरी ने बुधवार को दम तोड़ दिया. पलेंदर ने मंगलवार शाम जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम के साई हॉस्टल में पंखे से लटककर सुसाइड की कोशिश  की थी. दिल्ली पुलिस के मुताबिक उन्हें मंगलवार रात 9 बजे इसकी जानकारी मिली. हॉस्टल के कमरे में पलेंदर के दोस्तों ने उसे पंखे से लटका हुआ देखा. जिसके बाद उन्होंने रस्सी काटकर पलेंदर को नीचे उतारा और उसे तुरंत सफदरजंग अस्पताल पहुंचाया. अस्पताल में इलाज के दौरान बुधवार सुबह उनकी मौत हो गई. 

NDTV युवा : मशहूर एथलीट दुती चंद ने जेंडर विवाद पर यूं साझा की अपनी तकलीफ...

पुलिस को मौके से कोई भी सुसाइड नोट नहीं मिला. पलेंदर के परिवारवालों का कहना है कि उनकी पलेंदर से कल ही बात हुई थी, वह उस वक्त बिल्कुल सही था. अगर कुछ गड़बड़ हुई है तो वह साई हॉस्टल में ही हुई होगी. पुलिस ने इसके बाद मामले की जांच शुरू कर दी.

पलेंदर उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ के रहने वाले थे. हाल ही में पलेंदर का स्पोर्ट्स कोटे से सेना में चयन हुआ था. वह जल्द ही सेना की ट्रेनिंग पर जाने वाले थे. पलेंदर नवंबर 2016 से जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम के साई हॉस्टल में रहकर 100 और 200 मीटर रेस की तैयारी कर रहे थे. वह 100 और 200 मीटर की रेस में भारत की तरफ से अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा में हिस्सा लिया था. साल 2017 में वह बैंकॉक में हुई यूथ एशिया एथलेटिक मीट में भी भाग लिया था.

Newsbeep

सबसे ज़्यादा कमाने वाली टॉप 10 महिला एथलीटों में शामिल हुईं पीवी सिंधु, जानें कमाई

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


एशियाड के चैंपियनों ने साझा किया अपना अनुभव