NDTV Khabar

कैंसर को मात देने वाले बच्चों के आगे के जीवन को बनाना है बेहतर, तो करना पड़ेगा इन बातों पर गौर

कैंसर जैसे खतरनाक रोग को हराकर सामान्य जीवन जी रहे बच्चों के बीच जागरुकता फैलाने के लिए राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर (आरजीसीआई) ने यहां एक समारोह का आयोजन किया.

40 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
कैंसर को मात देने वाले बच्चों के आगे के जीवन को बनाना है बेहतर, तो करना पड़ेगा इन बातों पर गौर

प्रतीकात्मक फोटो

खास बातें

  1. कैंसर को मात देने वाले बच्चों के आगे के जीवन को बनाएं इस तरह बेहतर
  2. आरजीसीआई ने इसके लिए एक समारोह का आयोजन किया
  3. विशेषज्ञों ने कैंसर से संबंधित सवालों पर दिया जवाब
नई दिल्ली: कैंसर जैसे खतरनाक रोग को हराकर सामान्य जीवन जी रहे बच्चों के बीच जागरुकता फैलाने के लिए राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट एंड रिसर्च सेंटर (आरजीसीआई) ने यहां एक समारोह का आयोजन किया, जिसमें विशेषज्ञों ने बताया कि बीमारी से उबरने वाले बच्चों के लिए यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि वे लंबे समय तक स्वस्थ जीवन कैसे जिएं. संस्थान ने कल यहां ‘सेलिब्रेटिंग लाइफ 2017’ का आयोजन किया, जिसमें संस्थान के नीति बाग परिसर में पीडियाट्रिक हेमेटोलॉजी ऑन्कोलॉजी की निदेशक और चिकित्सा निदेशक डॉ गौरी कपूर ने अपनी बात रखी. 

यह भी पढ़ें: दुनियाभर में 5 करोड़ से ज्यादा बच्चे, वायरल हेपेटाइटिस से पीड़ित

उन्होंने कहा, ‘अब चूंकि ज्यादा से ज्यादा बच्चे अपनी बीमारी से बाहर आ रहे हैं और सामान्य जिंदगी जी रहे हैं तो ऐसे में ध्यान इस बात पर केंद्रित हो गया है कि ऐसे बच्चे लंबे समय तक स्वस्थ जीवन जिएं. इसलिए हमारी यह जिम्मेदारी बन जाती है कि देखभाल करने वाले माता-पिताओं और अभिभावकों को बच्चे के इलाज, इससे जुड़े दुष्प्रभाव आदि के बारे में बताया जाए. इसके खतरों के असर को कम करने के बारे में भी बात की जानी चाहिए.’ 

यह भी पढ़ें: ब्रेस्‍ट कैंसर के प्रति जागरूकता बढ़ाने के अभियान से जुड़ेंगी बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु

आरजीसीआई में कंसल्टेंट पीडियाट्रिक सर्जिकल ऑन्कोलॉजिस्ट डॉ शालिनी मिश्रा ने कहा, ‘कैंसर ठीक हो जाने के बाद बच्चों के सामने पूरी जिंदगी पड़ी होती है. यह जरूरी है कि उन्हें हर तरह से ठीक होने के लिए उचित देखभाल और पर्याप्त सलाह मिले. 2012-14 के लिए आई पॉपुलेशन बेस्ट कैंसर रजिस्ट्री (पीबीसीआर) की रिपोर्ट के मुताबिक, हर उम्र के लोगों की तुलना में बच्चों में कैंसर के मामले 0.7% से 4.4% के बीच थे. यह आंकड़ा 2006-2011 के बीच की रिपोर्ट की तुलना में कम है. तब यह प्रतिशत 0.5 से 5.8 के बीच था.’ 

VIDEO: डॉक्टर्स ऑन कॉल : कैंसर के इलाज में नई तकनीकों का इस्तेमाल
बच्चों के लिए अनेक मनोरंजक कार्यक्रमों और उनकी सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के बीच समारोह में पेशेवर विशेषज्ञों द्वारा करियर पर परामर्श और जीवन जीने के गुर सिखाने के लिए सत्रों का आयोजन भी किया गया.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement