बांदा रेप मामले में पीड़िता की हुई रिहाई

खास बातें

  • चोरी के आरोप में गत 12 दिसम्बर को जेल में बंद की गई 17 वर्षीय पीड़िता को मुख्यमंत्री के आदेश पर रिहा कर दिया गया है।
बांदा:

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती के निर्देश पर बांदा में कथित रूप से बसपा विधायक पुरुषोत्तम नरेश द्विवेदी द्वारा बलात्कार की शिकार बनाए जाने के बाद चोरी के इल्जाम में जेल में बंद अति पिछड़े वर्ग की पीड़ित लड़की को रिहा कर दिया गया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि चोरी के आरोप में गत 12 दिसम्बर को जेल में बंद की गई 17 वर्षीय पीड़िता को मुख्यमंत्री के आदेश पर रिहा कर दिया गया है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ने अपने 55वें जन्मदिवस समारोह में पीड़िता पर चोरी के आरोपों को साजिश का हिस्सा करार देते हुए उसे प्रारम्भिक जांच रिपोर्ट के आधार पर रिहा करने के आदेश दिए थे। आधिकारिक प्रवक्ता के मुताबिक कानून में ऐसा प्रावधान है जिसके तहत मामला फर्जी साबित होने की स्थिति में मुख्यमंत्री सम्बन्धित विचाराधीन कैदी को रिहा करने का आदेश दे सकता है। पीड़िता को रिहा करने का आदेश बांदा की अदालत में उसकी जमानत याचिका पर सुनवाई से दो दिन पहले जारी किए गए हैं। मायावती ने इस मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक अदालत में करवाने और उस लड़की पर साजिशन चोरी का इल्जाम लगाकर परेशान करने में शामिल पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की बात कही। इससे पहले गत 12 जनवरी को प्रदेश के कैबिनेट सचिव शशांक शेखर सिंह ने पीड़िता पर लगे चोरी के आरोपों को सही बताया था।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com