NDTV Khabar

असम में अवैध प्रवासियों से बांग्लादेश ने पल्ला झाड़ा, कहा- हमारा इससे कोई लेना-देना नहीं
पढ़ें | Read IN

बांग्लादेश के सूचना एवं प्रसारण मंत्री हसनुल-हक-इनू ने कहा कि, 'सब जानते हैं कि यह असम की सदियों पुरानी समस्या है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
असम में अवैध प्रवासियों से बांग्लादेश ने पल्ला झाड़ा, कहा- हमारा इससे कोई लेना-देना नहीं

बांग्लादेश का कहना है कि असम में अवैध प्रवासियों से हमारा कोई लेना-देना नहीं है'.

खास बातें

  1. बांग्लादेश के सूचना एवं प्रसारण मंत्री हसनुल-हक-इनू ने दिया बयान
  2. कहा- सब जानते हैं कि यह असम की सदियों पुरानी समस्या है
  3. बांग्लादेश का इस समस्या से कोई लेना-देना नहीं है
नई दिल्ली : असम के एनआरसी (नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स) के फाइनल ड्राफ्ट को लेकर देशभर में छिड़ी बहस के बीच बांग्लादेश ने कहा कि अवैध प्रवासियों को उनके देश से जोड़ना गलत है. समाचार एजेंसी ANI को दिये इंटरव्यू में बांग्लादेश के सूचना एवं प्रसारण मंत्री हसनुल-हक-इनू ने कहा कि, 'सब जानते हैं कि यह असम की सदियों पुरानी समस्या है. पिछले 48 सालों में किसी सरकार ने बांग्लादेश के सामने अवैध प्रवासियों का मुद्दा नहीं उठाया है. भारत सरकार इससे निपटने में खुद समक्ष है और मोदी सरकार को नई दिल्ली में इस समस्या से निपटना चाहिए. बांग्लादेश का इससे कोई लेना-देना नहीं है'.

 NRC पर ममता बनर्जी की मोदी सरकार को चेतावनी, 'देश में छिड़ जाएगा गृह युद्ध ', अमित शाह ने दिया यह जवाब...

जब बांग्लादेश के सूचना एवं प्रसारण मंत्री हसनुल-हक-इनू से यह पूछा गया कि क्या बांग्लादेश अवैध प्रवासी नागरिकों को अपने यहां वापस लेने को तैयार है, तो उन्होंने कहा कि, 'फिलहाल अभी तक भारत ने हमारे साथ एनआरसी के डाटा को साझा नहीं किया है. न ही यह मुद्दा उठाया है. जब तक वे ऐसा नहीं करते हैं हम कुछ नहीं कह सकते हैं'.  उन्होंने कहा, 'आप हम बांग्ला बोलने वाले व्यक्ति को बांग्लादेश से नहीं जोड़ सकते हैं'. गौरतलब है कि असम के एनआरसी का फाइनल ड्राफ्ट जारी होने के बाद से ही इस मुद्दे को लेकर पूरे देश में बहस छिड़ी हुई है. सियासत भी शुरू हो गई है. एनआरसी के फाइनल ड्राफ्ट में करीब 40 लाख लोग शामिल नहीं हो सके हैं. 

असम में 40 लाख अवैध नागरिक : ममता बनर्जी ने उठाया सवाल, क्या जबरदस्ती लोगों को निकाला जायेगा 

आपको बता दें कि एक दिन पहले ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि असम में NRC की कवायद राजनैतिक उद्देश्यों से की गई ताकि लोगों को बांटा जा सके. उन्होंने चेतावनी दी कि इससे देश में रक्तपात और गृह युद्ध छिड़ जाएगा. भाजपा पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि यह पार्टी देश को बांटने का प्रयास कर रही है और इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. इस पर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि ममता बनर्जी कहती हैं कि देश में गृह युद्ध हो सकता है. वह स्पष्ट करें कि किस प्रकार का गृह युद्ध होगा. इस मुद्दे पर वह देश की जनता के सामने अपना रुख स्पष्ट करें. उन्होंने कांग्रेस पर भी हमला बोला था. 

टिप्पणियां
असम में क्या है एनआरसी मसौदा, 40 लाख अवैध नागरिकों के पास अब कौन सा है विकल्प  

VIDEO : NRC मुद्दे पर बोले अमित शाह- 40 लाख का आंकड़ा अंतिम नहीं




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement