NDTV Khabar

अरुण जेटली बोले – इस तरह बैंक और टेलीकॉम कंपनियों को दी जा सकती है आधार के इस्तेमाल की छूट

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि संसद से पारित कानून के जरिये मोबाइल फोन और बैंक खातों को आधार से जोड़ने की व्यवस्था को बहाल किया जा सकता है.

282 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
अरुण जेटली बोले – इस तरह बैंक और टेलीकॉम कंपनियों को दी जा सकती है आधार के इस्तेमाल की छूट

वित्त मंत्री अरुण जेटली (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. आधार के इस्तेमाल पर बोले जेटली
  2. 'बैंक और टेलिकॉम कंपनियों को दी जा सकती है आधार के इस्तेमाल की छूट'
  3. जेटली ने कहा कि अदालत का फैसला ‘‘काफी अच्छा फैसला" है
नई दिल्ली:

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को कहा कि संसद से पारित कानून के जरिये मोबाइल फोन और बैंक खातों को आधार से जोड़ने की व्यवस्था को बहाल किया जा सकता है. हालांकि, उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि क्या सरकार इसके लिए नया कानून लाएगी. उच्चतम न्यायालय ने पिछले महीने 12 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या आधार को संवैधानिक रूप से वैध ठहराया था. लेकिन दूरसंचार कंपनियों जैसी निजी इकाइयों को सत्यापन के लिए आधार का इस्तेमाल करने से रोक दिया था. जेटली ने कहा कि अदालत का फैसला ‘‘काफी अच्छा फैसला" है क्योंकि न्यायालय ने स्वीकार किया है कि आधार के पीछे सरकार का उद्देश्य वैधानिक है. 

यह भी पढ़ें: बड़ी राहत: पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी 1.50 रुपये घटी, उपभोक्ताओं को मिलेगी 2.50 रुपये की राहत

वित्त मंत्री ने एचटी लीडरशिप समिट में कहा, "आधार नागरिकता से जुड़ी पहचान नहीं है." बल्कि यह एक व्यवस्था है. लोगों को विभिन्न सरकारी सहायता और सब्सिडी उपलब्ध कराने की एक प्रणाली होनी चाहिये. यही आधार का मुख्य उद्देश्य है." उन्होंने कहा कि न्यायालय ने आधार के ज्यादातर उद्देश्यों को सही ठहराया है. आधार के जिन कामों को वैध नहीं ठहराया गया है वह दो श्रेणियों में आते हैं. जिनमें से एक अनुरूपता का सिद्धांत है कि आधार इन मामलों में मदद करेगा और उसके बाद इसे उचित कानून के तहत किया जायेगा. 


यह भी पढ़ें: जानबूझकर कर्ज नहीं लौटाने वालों के खिलाफ कड़े कदम उठाएं बैंक : अरुण जेटली

टिप्पणियां

जेटली ने कहा, "सारा तर्क यह दिया जा है कि निजी कंपनियां इसका इस्तेमाल नहीं कर सकतीं हैं. इसमें धारा 57 है, जो यह कहती है कि आप दूसरों को कानूनी तरीके से या फिर अनुबंध के जरिये प्राधिकृत कर सकते हैं. जिसे निरस्त किया गया है वह अनुबंध के जरिये प्राधिकृत करने वाले हिस्से को निरस्त किया गया है.’’ जेटली ने कहा कि कानूनी प्रावधान से मोबाइल फोन और बैंकों खातों को आधार से जोड़ने की व्यवस्था को बहाल किया जा सकता है. 

VIDEO: प्राइम टाइम इंट्रो: कंपनियों के पास गए आधार का क्या होगा?
हालांकि, जेटली ने यह स्पष्ट नहीं किया है कि इस उद्देश्य के लिए सरकार की संसद में कानून में संशोधन की कोई योजना है. वित्त मंत्री ने कहा कि न्यायालय ने आयकर जैसे कई क्षेत्रों में आधार के इस्तेमाल की अनुमति दी है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान प्रत्येक संसदीय सीट से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement